जमशेदपुर (जागरण संवाददाता)। जमशेदपुर पूर्वी विधानसभा क्षेत्र से झारखंड विकास मोर्चा के प्रत्याशी अभय सिंह ने मंगलवार को काशीडीह स्थित पार्टी कार्यालय में आयोजित पत्रकार वार्ता में अपना घोषणा पत्र जारी किया।

अपने घोषणा पत्र में उन्होंने 86 बस्ती को मालिकाना हक, 25 वर्ष से बंद केबुल कंपनी और एग्रिको कंपनी को खेलवाने, 15 हजार से अधिक बाईसिक्स को स्थाई करवाने, एमजीमए अस्पताल की दशा सुधारने के लिए आवश्यक कदम उठाने और मोहरदा जलापूर्ति योजना से तमाम बस्तियों को साफ पानी दिलाने के मुद्दे को प्रमुखता दी है। 

पत्रकारों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि जनता और कार्यकर्ताओं के आदेश से मैं चुनाव मैदान में उतरा हूं। रघुवर के कुशासन के खिलाफ मैं 15 वर्षों से संघर्ष कर रहा हूं।

उपरोक्त सभी मुद्दों पर अपनी पार्टी के साथ मैंने धरना-प्रदर्शन और हाईकोर्ट में रिट सहित आंदोलनों के जरिए लंबी लड़ाई लड़ी है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री पांच साल में 150 बार हेलीकॉटर से जमशेदपुर आए, लेकिन जिस एमजीएम अस्पताल में 250 से अधिक बच्चों की मौत हो गई, उसका एक बार भी दौरा नहीं किया। उसको सुधारने के लिए कोई कदम नहीं उठाया।

उन्होंने मुख्यमंत्री से सवाल किया कि जमशेदपुर पूर्वी क्षेत्र का 70 प्रतिशत हिस्सा कंपनी कमांड एरिया है। यहां तमाम बुनियादी सुविधाएं कंपनियां उपलब्ध कराती हैं। 30 प्रतिशत हिस्से में भी रघुवर दास बुनियादी सुविधाएं देने में फेल क्यों हैं। बेरोजगारी के इस दौर में सेफ्टी कार्ड के नाम पर मजदूरों की जेब 10 हजार रुपये निकाल लिए जा रहे हैं। यहां तक कि मुख्यमंत्री का अपने विधानसभा क्षेत्र की भौगोलिक स्थिति का भी ज्ञान नहीं है, इसलिए वे मालिकाना के मुद्दे पर सीएनटी एक्ट राग अलाप रहे हैं। पत्रकार वार्ता में जिलाध्यक्ष बबुआ सिंह सहित अन्य लोग भी मौजूद थे। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस