जमशेदपुर (वेंकटेश्वर राव)। कोल्हान विश्वविद्यालय के अधीन संचालित कॉलेज अपने आप को नई शिक्षा नीति के अनुरूप ढालने लगे हैं। कोल्हान विश्वविद्यालय चाईबासा में आयोजित राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान (रुसा) की बैठक में यह देखने को मिला।

सभी कॉलेज के प्रिंसिपलों की बैठक इस्टीट्यूशनल डेवलपमेंट प्लान को लेकर बुलाई गई थी। इसमें कई कॉलेजों ने नई शिक्षा की नीति के अनुरूप अपने आप को प्रस्तुत किया। इसके साथ ही आधारभूत संरचना से लेकर, कई कोर्स शुरू करने के प्रस्ताव दिए। कई कॉलेज सात साल, पांच साल व तीन साल का एक्शन प्लान लेकर पहुंचे थे। घाटशिला कॉलेज तो 15 साल का प्रोस्पेक्टिव प्लान लेकर पहुंचा था। कुल मिलाकर कॉलेजों की ओर से एक हजार करोड़ रुपये का प्रस्ताव रखा गया। 

  इस बैठक में एबीएम कॉलेज गोलमुरी की ओर स्पोट्र्स कांप्लेक्स, जी प्लस फोर हॉस्टल सहित कई प्रस्ताव प्रभारी प्राचार्य डॉ. राजेंद्र भारती की ओर से प्रस्तुत किए गए। यह लगभग 100 करोड़ का प्रस्ताव था। घाटशिला कॉलेज की ओर से अपने आप को ट्राइबल यूनिवर्सिटी का प्लान तैयार करते हुए आधारभूत संरचना से लेकर कई प्लान तैयार किया। इसके लिए लगभग 200 करोड़ का प्रस्ताव समर्पित किया। एलबीएसएम कॉलेज बी विश्वविद्यालय की ओर अग्रसर हुआ है। प्राचार्य डॉ. अमर सिंह ने इसके लिए लगभग 200 करोड़ का प्रस्ताव तैयार करने की बात कही। बहरागोड़ा कॉलेज की ओर से भी लगभग 150 करोड़ का प्रस्ताव तैयार किया गया। कई अन्य कॉलेजों ने भी प्रस्ताव दिए, कई कॉलेजों ने प्रस्ताव तैयार ही नहीं किया। इनके लिए विश्वविद्यालय ने मंगलवार तक का समय दिया है। 

रूसा की बैठक में कॉलेज के विकास पर चर्चा हुई। एक्शन प्लान से लेकर कई तरह के प्लान मांगे गए। सैकड़ों करेाड़ रुपये के प्रस्ताव आए। यह अच्छी बात है कि कॉलेज नई शिक्षा नीति के अनुरूप अपने आप को ढाल रहे है तथा रुसा से सहयोग की अपेक्षा कर रहे हैं। 

डॉ. एके उपाध्याय, रुसा को-आर्डिनेटर, कोल्हान विश्वविद्यालय।  

Posted By: Vikas Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस