जमशेदपुर, जासंं। मानगो के चर्चित दुष्कर्म कांड में स्पेशल पोक्सो कोर्ट यानि एडीजे फाइव की अदालत में पीडि़ता किशोरी का बयान दर्ज हुआ। पीडि़ता ने कोर्ट में दो नए आरोपितों छोटा गोविंदपुर के मनोज सहाय और टेल्को कर्मचारी गुरप्रीत सिंह का नाम लिया है। इस तरह, मानगो दुष्कर्म कांड में आरोपितों की संख्या बढ़ कर 21 के आसपास हो गई है।

गवाही में पीडि़ता ने कोर्ट को बताया है कि उसके साथ कई अपार्टमेंट, टेल्को में, गोविंदपुर में, एमजीएम थाने में, डिमना रिसोर्ट में,एनएच 33 के कई होटलों में, रिफ्यूजी कॉलोनी के एक मकान में, पटमदा के एक बंद पड़े क्रशर में आदि जगहों पर दुष्कर्म हुआ है। पीडि़ता ने पूर्व डीएसपी व एक पूर्व थाना प्रभारी का भी नाम लिया है। कोर्ट में गुरुवार को मानगो दुष्कर्म मामले की तारीख थी। मानगो दुष्कर्म मामले में मानगो थाने में 18 जनवरी 2018 को प्राथमिकी दर्ज हुई थी। तब पीडि़ता ने 19 लोगों के नाम बताए थे। लेकिन, पुलिस ने इनमें से इंद्रपाल सिंह सैनी, शिव कुमार महतो और श्रीकांत महतो को पकड़ कर जेल भेज दिया था। इनमें से श्रीकांत महतो की हाईकोर्ट से जमानत हो चुकी है। इंद्रपाल और शिव कुमार की जमानत बुधवार को ही हाईकोर्ट ने निरस्त की थी।

दुष्कर्म का वीडियो बना कर किया था ब्लैकमेल

मानगो स्थित एक अपार्टमेंट में हुए दुष्कर्म के मामले में गवाही में पीडि़ता ने कोर्ट को बताया कि वह मुंह बोले चाचा के घर में रहती है और उनके घर का काम करती है। एक दिन वे बाहर गए थे तभी अचानक फ्लैट की बिजली चली गई थी। चाचा को इसकी जानकारी हुई तो उन्होंने शिवकुमार को बिजली ठीक करने के लिए भेजा। शिव कुमार ने अकेला पाकर उसके साथ गलत किया। इसकी जानकारी इन्द्रपाल सिंह सैनी को मिली तो उसने भी उसके साथ गलत किया और वीडियो बनाकर उसे ब्लैक मेल किया।

डिमना लेक के जंगलों में भी हुआ सामूहिक दुष्कर्म

पीडि़ता ने कोर्ट को बताया कि उसे एमजीएम थाना क्षेत्र के एक जंगल में ले गये जहां कुछ लोग उसके साथ जबरन गलत कर रहे थे। वहां पुलिस ने उसे पकड़ा और उसे थाना लेकर आयी। थाना में दो पदाधिकारियों ने उसके साथ गलत किया। उसके बाद एक महिला उसकी चाची बनकर थाना में आई और उसे छुड़ाकर ले गयी। उसके बाद उसे एनएच 33 स्थित कई होटलों में ले जाया गया जहां कई लोगों ने उसके साथ दुश्कर्म किया। उसका वीडियो बनाया गया। एक बार उसे सैनी और शिवकुमार ने एक पुडिय़ा दी जिसे उसके घर में बन रहे खाने में मिला देने को कहा गया। लेकिन उसने ऐसा नहीं किया। अपनी गवाही में पीडि़ता ने कोर्ट को उसके साथ हुए पूरे घटनाक्रम को बताया।

 

Posted By: Rakesh Ranjan

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप