जमशेदपुर : यात्रियों को नई-नई सुविधाएं देने के लिए रेल मंत्रालय कई तरह से पहल कर रही है। इस बार रेलवे ने अपनी आमदनी बढ़ाने के साथ-साथ रेल यात्रियों को नया अनुभव देने के लिए देश के विभिन्न स्टेशनों पर रेल कोच रेस्टोरेंट का संचालन शुरू किया है। जो रेलवे स्टेशन पर ही अवस्थित होगा और पूरा रेस्टोरेंट रेलवे के पुराने कोच में ही बनाया जाएगा। भारतीय रेल ने अपनी इस पहल के तहत पश्चिम मध्य रेलवे के मध्य प्रदेश, जबलपुर, भोपाल मंडल सहित दक्षिण पूर्व रेलवे के आद्रा मंडल में यह पहल शुरू कर दी है। रेलवे की योजना है कि जल्द ही इस तरह की पहल टाटानगर जैसे ए-वन क्लास के स्टेशनों पर भी शुरू की जाए।

रेलवे कोच के पुराने डिब्बों में ही बनेगा रेस्टोरेंट

रेलवे की इस पहल का उद्देश्य आमदनी बढ़ाना तो है ही साथ ही पुराने कोच को भी फिर से इस्तेमाल में लाना है। इस तरह की पहल से रेलवे को गैर ट्रांसपोटेशन मद में 0.84 करोड़ रुपये की आमदनी हो रही है। इसके लिए रेलवे अपने पुराने कोच की मदद से प्रत्येक रेस्टोरेंट में 200 वर्गफीट की जगह दे रहा है ताकि रेस्टोरेंट में आने वाले यात्रियों को रेल यात्रा की तरह ही अनुभव मिल सके। इसके लिए रेलवे ने निजी एजेंसियों से पांच साल का अनुबंध किया है। इस अनुबंध के तहत रेस्टोरेंट का संचालन संबधित एजेंसी करेंगी और कोच रेलवे की संपत्ति बनी रहेगी।

इन स्टेशनों में रेस्टोरेंट खोलने की है योजना

रेलवे अपने गैर किराया राजस्व के तहत जबलपुर मंडल में जबलपुर, मदन महल, कटनी, मुरवाना, सतना, रीवा जैसे स्टेशनों पर रेल कोच रेस्टोंट स्थापित करने की योजना बना रहा है। ये रेस्टोरेंट रेलवे के सर्कुलेटिंग एरिया में ही खोले जाएंगे। जबकि भोपाल मंडल में भोपाल व इटारसी रेलवे स्टेशनों के सर्कुलेटिंग एरिया में रेल कोच रेस्टोरेंट खोलने की योजना बनाई जा रही है। दक्षिण पूर्व रेलवे में भी इस योजना पर विचार किया जा रहा है।

आसनसोल में लांच किया था रेस्तरां ऑन व्हील्स

दक्षिण पूर्व रेलवे जोन में चार मंडल है। इसमें चक्रधरपुर, आद्रा, खड़गपुर व रांची मंडल है। इसमें आद्रा मंडल में पिछले साल नेशनल ट्रांसपोटेशन ने आसनसोल स्टेशन के सर्कुलेटिंग एरिया में अपना पहला रेस्टोरेंट, रेस्तरां ऑन व्हील्स का शुभारंभ किया था। इसके तहत रेलवे के दो पुराने मेमू कोचों के मोडिफाई कर उसे रेस्टोरेंट के रूप में नया रूप दिया गया था। रेल मंत्रालय के मुताबिक, इस अनूठे प्रयास से आसनसोल स्टेशन पर यात्री सुविधाओं में सुधार होगा और आने वाले पांच साल में लगभग 50 लाख रुपये की गैर-किराया राजस्व आय उत्पन्न होगी।

Edited By: Jitendra Singh