जमशेदपुर, जागरण संवाददाता। सुकन्या योजना (Suknya Yojana) की पात्रता रखनेवालों की सूची 15 जनवरी तक उपलब्ध कराने को कहा गया है। पूर्वी सिंहभूम जिले में मुख्यमंत्री सुकन्या योजना के क्रियान्वयन के लिए गुरुवार को महत्वपूर्ण बैठक निदेशक एनईपी और निदेशक डीआरडीए की संयुक्त अध्यक्षता में समाहरणालय सभागार में हुई। बैठक में निदेशक एनईपी ने शिक्षा विभाग के पदाधिकारियों को निर्देश दिया कि जिस प्रकार एससी-एसटी बच्चों को छात्रवृत्ति का विवरण विभाग के पास है। उसके आधार पर पात्रता रखने वाली बच्चियों की सूची बनाकर 15 जनवरी तक उपलब्ध कराएं।

निदेशक एनईपी सह समाज कल्याण विभाग की वरीय प्रभारी रंजना मिश्रा ने सिविल सर्जन को निर्देश दिया कि संस्थागत प्रसव का विवरण उपलब्ध कराएं। जिन्हें लक्ष्मी लाडली योजना का लाभ मिला हो अथवा वह एसईसीसी सूची में जिसका नाम हो या जिसके पास अंत्योदय कार्ड हो। सभी सीडीपीओ, सहिया और एएनएम को भी वैसे लोगों की सूची बनाने का निर्देश दिया गया जो मुख्यमंत्री सुकन्या योजना की पात्रता रखते हैं। एलडीएम को इस योजना के लाभुकों के खाते खुलवाने व आधार से लिंक करवाने का निर्देश दिया गया।

क्या है सुकन्या योजना
झारखंड में 24 जनवरी से शुरू होने जा रही मुख्यमंत्री सुकन्या योजना में 18 साल तक की लड़कियों को पढ़ाई के अलावा अन्य जरूरतों के लिए समय-समय पर वित्तीय मदद दी जाएगी। इसका लाभ उन लोगों को मिलेगा जो सामाजिक, आर्थिक एवं जातीय जनगणना में पिछड़े पाए गए हैं। ऐसे 26 लाख परिवारों की बच्चियों को इसका लाभ मिलेगा। इसमें जन्म से लेकर 18 साल तक की उम्र की लड़कियों को शिक्षा के साथ आर्थिक एवं सामाजिक विकास के लिए राज्य सरकार समय-समय पर आर्थिक सहायता मुहैया कराएगी।

सरकार की है महत्वाकांक्षी योजना
गौरतलब हो कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के नारे को साकार करने के साथ ही महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने, स्कूलों में ड्रॉप आउट को रोकने एवं बाल विवाह प्रथा का अंत करने के उद्देश्य से राज्य में मुख्यमंत्री सुकन्या योजना की शुरुआत की गई है। विगत तीन जनवरी को आहूत मंत्रिपरिषद की बैठक में राज्य योजना अंतर्गत मुख्यमंत्री सुकन्या योजना की स्वीकृति दी गई।

24 जनवरी से होगी शुरुआत
आगामी 24 जनवरी से झारखंड में मुख्यमंत्री सुकन्या योजना की शुरुआत होगी। बैठक में सिविल सर्जन, जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिला शिक्षा अधीक्षक, जिला आपूर्ति पदाधिकारी, जिला समाज कल्याण प्रभारी पदाधिकारी, जिला के अग्रणी बैंक प्रबंधक, सभी बाल विकास परियोजना पदाधिकारी एवं सभी महिला पर्यवेक्षिका शामिल हुई।