जमशेदपुर : टाटा स्टील की 100 प्रतिशत अनुषंगी इकाई, टाटा स्टील यूटिलिटीज एंड इंफ्रास्ट्रक्चर सर्विसेज लिमिटेड (पूर्व में जुस्को) प्रबंधन ने सोमवार शाम बोनस का पैसा रिलीज कर दिया। कंपनी प्रबंधन ने एकतरफा निर्णय लेते हुए बोनस का पैसा एक-दो दिन में कर्मचारियों के बैंक खाते में भेज देगी। जुस्को के 706 कर्मचारियों को वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए 6.43 करोड़ रुपये बोनस मिलेगा। हालांकि कर्मचारियों को अधिकतम व न्यूनतम कितना बोनस मिलेगा, इसका उल्लेख प्रबंधन द्वारा नहीं किया गया है।

बोनस का बना हुआ है फार्मूला

जुस्को में बोनस का फार्मूला बना हुआ है। जिसमें प्रोफिट बिफोर टैक्स (पीबीटी), शिकायतों का अनुपालन, टॉप बॉक्स, ट्रांसमिशन और डिसट्रीब्यूशन लॉस, पानी के मद में कुल अलेखित हिसाब, कुल उत्पादक रख-रखाव, बार-बार आने वाली शिकायतें, उत्पादकता, बेहतरीन प्रदर्शन जैसे प्वाइंट के आधार पर बोनस तय किया गया है।

प्रबंधन ने 15 करोड़ रुपये अधिक दिया बोनस

बोनस फार्मूले के तहत वित्तीय वर्ष 2020 में कर्मचारियों के बोनस मद में 6.281 करोड़ रुपये बोनस बन रहा था। लेकिन कोविड 19 काल में कर्मचारियों ने निबाध भाव से अपनी सेवा दी। स्वच्छ भारत सर्वेक्षण रैंकिंग, वेस्ट वाटर रि-साइकिलिंग, टीबीईएम में सर्वश्रेष्ठ स्कोर और वार्षिक खाद उत्पादन में अब तक का सर्वेश्रेष्ठ रिकार्ड उत्पदन किया। इसे ध्यान में रखकर कंपनी प्रबंधन ने लगभग 15 करोड़ रुपये अधिक 6.43 करोड़ रुपये बोनस दिया।

यूनियन की मान्यता है रद, प्रबंधन ने नहीं किया द्वि-पक्षीय समझौता

जुस्को श्रमिक यूनियन का चुनाव नहीं होने के कारण यूनियन की मान्यता रद हो गई है। यूनियन चुनाव का मामला श्रम विभाग सहित झारखंड हाईकोर्ट में विचाराधीन है। ऐसे में कंपनी प्रबंधन ने यूनियन नेतृत्व से बिना बोनस पर वार्ता किए एकतरफा निर्णय लेते हुए बोनस का पैसा कर्मचारियों के लिए रिलीज कर दिया है। कंपनी प्रबंधन ने आने वाले त्योहार को ध्यान में रखते हुए सोमवार शाम को वार्षिक बोनस की घोषणा की है। बोनस की घोषणा होते ही कर्मचारियों में खुशी की लहर दौड़ गई है। 

Edited By: Jitendra Singh