जेएनएन, जमशेदपुर : पश्चिम सिंहभूम जिले के सारंडा के छोटानागरा जंगल से करीब 40 किलो का लैंड माइंस बरामद हुआ है। ऐसी आशंका है कि नक्सलियों ने सुरक्षा बलों को विस्फोट से उड़ाने के लिए इसे छुपाया होगा। नक्सली ऐसा कुछ कर पाते इससे पहले ही पुलिस ने इसे बरामद कर लिया।

जानकारी के अनुसार, आरक्षी अधीक्षक क्रांति कुमार गड़देसी के आदेश पर मंगलवार को मनोहरपुर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी विमलेश त्रिपाठी, सीआरपीएफ के सहायक समादेष्टा उपेंद्र ¨सह संयुक्त रूप से सघन अभियान चला रहे थे। इस दौरान पुलिस सारंडा के छोटानागरा जंगल के पास एक पगडंडी के करीब पहुंची तो पता चला कि 40 किलो का लैंड माइंस छुपा कर रखा गया है। यही नहीं विस्फोट के लिए रखा गया दो सौ मीटर लंबा तार भी बरामद हुआ। पुलिस ने इसे तत्काल मौके पर ही नष्ट कर दिया। यह अभियान नक्सलियों के खिलाफ चलाया जा रहा है। आरक्षी अधीक्षक क्रांति कुमार गड़देसी ने कहा कि ऐसी आशंका है कि नक्सलियों ने ही इसे छुपाकर रखा होगा। उनका मकसद सुरक्षा जवानों नुकसान पहुंचाना हो सकता है। मालूम हो कि सारंडा जंगल में इससे पूर्व भी कई जगह विस्फोटक बरामद हो चुका है। चूंकि यह क्षेत्र नक्सलियों का गढ़ रहा है, इसलिए यहां पुलिस हमेशा सतर्क रहती है। नक्सलियों का प्रभाव खत्म करने के लिए ही समय समय पर यहां पुलिस अभियान चलाती रहती है। उधर, लैंड माइंस मिलने के बाद से क्षेत्र में इस बात की आशंका बढ़ गई है कि किसी भी दिन नक्सलियों से पुलिस की मुठभेड़ हो सकती है। अभी से लोग मुठभेड़ का कयास लगाने लगे हैं। दरअसल, यह इलाके बेहद दुरूह है। यहां कहां पर नक्सली मिल जाएं कहना मुश्किल होता है। इसलिए जवान भी बेहद सतर्क होकर काम करते हैं।

Posted By: Jagran