जागरण संवाददाता, जमशेदपुर : भारतीय क्रिकेट टीम के कोच को लेकर चल रही गहमागहमी के बीच आदित्य वर्मा ने आरोप लगाया है कि इस विवाद की जड़ के पीछे भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआइ) के सचिव अमिताभ चौधरी का हाथ है। आदित्य वर्मा वही शख्स हैं, जिन्होंने सुप्रीम कोर्ट में बीसीसीआइ के खिलाफ याचिका दायर की है, जिसके बाद अदालत ने लोढ़ा कमेटी का गठन कर क्रिकेट संघ में बदलाव की प्रक्रिया शुरू की है।

झारखंड राज्य क्रिकेट एसोसिएशन (जेएससीए) के पूर्व अध्यक्ष अमिताभ चौधरी पर 200 करोड़ के गबन की शिकायत थाने में दर्ज कराने के सिलसिले में आदित्य वर्मा जमशेदपुर पहुंचे हैं।

आदित्य वर्मा ने बताया कि ऐसे समय में जब भारत चैंपियन ट्रॉफी में भाग ले रहा हो, नए कोच की चर्चा करना कुंबले का मनोबल गिराने के सामान है। कुंबले ने अभी तक एक भी सीरीज नहीं गवाई है। इसके बावजूद नये कोच की चर्चा करना बेमानी है। उन्होंने कहा कि 2005-06 में जिम्बाब्वे दौरे के दौरान टीम के कप्तान सौरव गांगुली व कोच ग्रेग चैपल के बीच तनाव हो गया था। उस समय टीम के मैनेजर अमिताभ चौधरी ही थे।

आदित्य वर्मा ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित कमेटी ऑफ एडमिनिस्ट्रेशन (सीओए) उम्मीदों पर खरा नहीं उतर रहा है। सीओए के सदस्य रामचंद्र गुहा के इस्तीफे से यही लगता है। हालांकि गुहा का इस्तीफा पर अभी अंतिम फैसला नहीं आया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस