जमशेदपुर, जासं। मुख्यमंत्री रघुवर दास के गढ़ में झारखंड विकास मोर्चा के सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने जमकर दहाड़ा और भाजपा की घेराबंदी की। मरांडी ने कहा कि जिस तरह शेर को खून का चस्का लग जाता है तो वह अपने मालिक को मार देता है उसी तरह भाजपा की सरकार को प्रसाद लेने का चस्का लग गया है।

पूर्व मुख्यमंत्री मरांडी ने कहा कि सरकार ने पहले नोटबंदी करके माताओं-बहनों के गुल्लक से पैसे निकाले और फिर जीएसटी लगाकर छोटे व्यापारियों व कारोबारियों को मार दिया। इससे भी मन नहीं भरा तो रिजर्व बैंक से 1.76 लाख करोड़ लिए। अब कहीं से इनको पैसा नहीं दिख रहा है तो नया ट्रैफिक कानून लाकर गरीब जनता की जेब से पैसा निकाल रहे हैं।

सरकार का गरीबों से लेना-देना नहीं

 उन्होंने कहा कि झारखंड और दिल्ली की भाजपा सरकार गरीबों के लिए कुछ नहीं कर सकती है। इनका गरीबों से कोई लेना-देना नहीं है। सरकार को लेना-देना है तो बड़े-बड़े उद्यमियों से। सरकार सिर्फ बड़े कारोबारियों के लिए काम कर रही है। 

हाथी उड़ाते रहे रघुवर

मरांडी ने कहा कि रघुवर दास ने पांच साल तक इस राज्य के लिए कुछ नहीं किया। आधारभूत संरचना के लिए कुछ नहीं किया। गरीबों के लिए कुछ नहीं किया। सिर्फ हाथी उड़ाते रहे। उन्होंने कहा कि झारखंड मोमेंटम के नाम पर 900 करोड रुपए खर्च किए गए, लेकिन मिला कुछ नहीं। आज उनसे पूछिए कि कितने निवेश हुए तो नहीं बोलते। इस बात पर भी कुछ नहीं बोलते कि कितने उद्योग बंद हो गए। इस राज्य में खनिज पदार्थ की कमी नहीं है, पानी की कमी नहीं है, लेकिन सैकड़ों उद्योग बंद हो गए, क्योंकि यहां कमी है तो सिर्फ बिजली की। रघुवर सरकार में कम हो गया बिजली उत्पादन

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि 2014 में रघुवर दास मुख्यमंत्री बने थे तो राज्य में 500 मेगावाट बिजली पैदा होती थी, आज 2019 में 150 मेगावाट बिजली पैदा हो रही है। कहां गई 350 मेगावाट बिजली, इस बात पर इन्होंने कभी काम नहीं किया। स्कूल बंद हो गए। उद्योग बंद हो गए। बेरोजगारी बढ़ रही है, लेकिन ये सिर्फ हाथी उड़ाते रहे। मैंने रघुवर दास को शुरू में ही कहा था कि यह सब मत कीजिए। इससे झारखंड का विकास नहीं होगा। बाहर से कोई पूंजीनिवेश करने नहीं आएगा। यहां के राज्य के लोगों को मजबूत करने की जरूरत है, तभी विकास होगा, लेकिन इन्होंने कुछ नहीं सुना। दरअसल इन्हें सरकार चलाना आता ही नहीं। गरीबों से कोई मतलब नहीं है।

86 बस्ती का नारा भूल गए

मरांडी ने कहा कि रघुवर दास ने यहां के लोगों के साथ भी छल किया। जब ये मुख्यमंत्री बने थे और उसके पहले से यहां के लोगों को 86 बस्ती का मालिकाना हक देने की बात कहते थे, लेकिन मुख्यमंत्री बनने के बाद भूल गए। अब जब चुनाव आया है तो प्रधानमंत्री आवास के नाम पर फार्म बांट रहे हैं। यह सिर्फ छलावा है। ये किसी को घर देने वाले नहीं हैं, उल्टा गरीबों के जेब से पैसे निकाल लेंगे। 

कार्यकर्ताओं को दिए टिप्स

बाबूलाल जमशेदपुर टाउन हाल में झारखंड विकास मोर्चा के कोल्हान प्रमंडल स्तरीय युवा कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्हाेंने कार्यकर्ताओं में जोश भरा और चुनावी टिप्स दिए। इस सम्मेलन में पूर्वी सिंहभूम, पश्चिम सिंहभूम और सरायकेला खरसावां जिले के कार्यकर्ता शामिल हुए। अगले विधानसभा चुनाव में मजबूत दावेदारी के लिए यह सम्मेलन आयोजित किया गया। 

 

Posted By: Rakesh Ranjan

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप