मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जमशेदपुर, जितेंद्र सिंह।  झारखंड स्टेट क्रिकेट एसोसिएशन (जेएससीए) के चुनाव में रोमांच किसी क्रिकेट मैच से कम नहीं है। चुनाव में कई ऐसे खिलाड़ी खड़े हैं जो पिछले दो दशक से अपने जिले के पदाधिकारी हैं। लेकिन इस बार चुनाव में खड़े होने के कारण उन्हें जिला बदर होना पड़ सकता है, क्योंकि जेएससीए में एक व्यक्ति एक पद का नियम है।

इन्हीं में से एक प्रमुख नाम है प्रवीर कुमार सिंह का। जनाब लगभग दो दशक से सरायकेला-खरसावां क्रिकेट संघ के सचिव पद पर कुंडली मारकर बैठे हैं। प्रवीर के ऊपर पिछले दरवाजे से खिलाडिय़ों को टीम में शामिल करने का आरोप भी लग चुका है। लेकिन जनाब 'बॉस' के खासमखास हैं। ऐसे में उनकी कॉलर तक अभी तक किसी का हाथ नहीं पहुंच पाया। लेकिन प्रवीर दो पाटों के बीच फंस चुके हैं। फिलहाल वह जेएससीए चुनाव में कमेटी मेंबर के पद पर खड़े हुए हैं।

विरोधी पक्ष ने कमेटी मेंबर के लिए नहीं दिए उम्मीदवार

इस चुनाव में विरोधी पक्ष ने कमेटी मेंबर पद पर कोई उम्मीदवार नहीं खड़ा किया है। ऐसे में प्रवीर का निर्विरोध निर्वाचित होना तय माना जा रहा है। इसके बाद उन्हें सरायकेला-खरसावां क्रिकेट संघ का सचिव पद छोडऩा होगा। यही हाल चतरा जिला क्रिकेट संघ के सचिव गोपाल सहाय का है। गोपाल सहाय 1994-95 से ही अपने जिले में सचिव पद का शोभा बढ़ा रहे हैं। वह पिछले 25 साल से इस पद पर जमे हुए हैं। गढ़वा के संजय सहाय भी गोपाल को चुनौती दे रहे हैं, वह पिछले 1992-93 से अपने जिले में सचिव पद पर विराजमान हैं।

यही हाल साहिबगंज के सीपी सिन्हा का

यही हाल साहिबगंज जिले के सीपी सिन्हा का है। सीपी सिन्हा सही मायने में साहिबगंज के साहेब बन सचिव का सिंहासन पर आसीन हैं। प्रवीर कुमार, गोपाल सहाय, संजय सिंह व सीपी सिन्हा कमेटी मेंबर के उम्मीदवार है। विरोधी पक्ष ने इस पद के लिए कोई उम्मीदवार नहीं दिया है, ऐसे में उपरोक्त चारों पदों पर इनका निर्विरोध निर्वाचित होना तय माना जा रहा है। ऐसे में इन्हें अपने-अपने जिले में सचिव पद छोडऩा होगा।

स्कूल-क्लब प्रतिनिधि के लिए हाउस करेगा वोट

जेएससीए के इतिहास में यह पहली बार होगा जब स्कूल क्लब प्रतिनिधि का एक पद के लिए सभी सदस्य वोट करेंगे। अभी तक इस पद के लिए स्कूल, क्लब व संस्थान ही वोट किया करते थे। इस पद के लिए अमिताभ गुट की ओर से शंकर व विरोधी पक्ष से नंदु पटेल मैदान में हैं। स्कूल के 29, क्लब के 25 व संस्थान के 10 वोट मिलाकर कुल 64 वोट हैं। पहले स्कूल क्लब प्रतिनिधि का चुनाव इन्हीं 64 वोट के आधार पर होता था। लेकिन अब 741 वोटर नंदु व शंकर के भाग्य का फैसला करेंगे।  

ये भी पढ़ें: Jharkhand State Cricket Association : दरकने लगा जेएससीए सुप्रीमो अमिताभ चौधरी का किला

ये भी पढ़ें: सबा करीम और केवीपी राव फिर जेएससीए से बाहर, जानिए क्या है वजह

Posted By: Rakesh Ranjan

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप