जमशेदपुर : जमशेदपुर में हाल ही में एक पास्टर पर धर्मांतरण करवाने का आरोप लगा है। इस पास्टर की कहानी राम-रहीम वाले बाबा से कम नहीं है। लोगों को चंगा करने के बहाने खूब पैसे ऐठता है। इसकी शानो-शौकत देख आप भी हैरान रह जाएंगे। महंगी एसयूवी में घूमने वाला यह कथित पास्टर बिना पैसे के कुछ नहीं करते।

पुलिस महकमा में भी इसका रसूख है, तभी तो प्रशासन इसे छूने की हिमाकत नहीं करती। रविवार को जब एक महिला ने इस पर धर्मांतरण करने का आरोप लगाई तो पुलिस उठाकर ले गई। लेकिन 24 घंटे के अंदर ही घर वापस आ गया।

खुद को संत बताता है रवि सिंह

पास्टर रवि सिंह खुद को संत बताता है और उसके आसपास दर्जन भर अविवाहित युवतियों की फौज रहती है। टिनप्लेट के नानक नगर स्थित घर की छत पर हर दिन उसका दरबार सजता है। जहां लोगों को कथित तौर पर चंगई करने, शादी ठीक करने, भूत-प्रेत भगाने का हाले-लूइया कहकर आशीर्वाद देकर ठीक करने का दावा करता था। स्थानीय लोगों का कहना है सात बहन व एक भाई में रवि सिंह इकलौता लड़का है और उसका जन्म आसनसोल में हुआ था।

उसके पिता बर्नपुर के एक माइंस में काम करते थे। रवि जन्म से पंजाबी है इसलिए अपनी सभा में भी पंजाबी में ही बात करता है। लगभग पांच साल पहले जब आसनसोल में दरबार लगाकर मतांतरण करना शुरू किया तो स्थानीय लोगों का विरोध होने लगा। वहां से भागकर वह पंजाब के जालंधर शहर पहुंच गया। जालंधर में कुछ दिन रहने के बाद टिनप्लेट स्थित अपना ननिहाल पहुंचा। जमशेदपुर में मामा ने अपने घर के बगल में टिनप्लेट कंपनी की जगह घेर कर दिया जहां अवैध रूप से तीन मंजिला मकान बनाकर अपने मां-पिता व दो अविवाहित बहनों के साथ रहता है।

पूरे झारखंड में फैला है जाल

स्थानीय निवासियों का दावा है कि छिटपुट तरीके से मतांतरण का धंधा काफी समय से चल रहा है। इसका नेटवर्क पूरे झारखंड में फैला है। जब पटमदा, पोटका, घाटशिला, मुसाबनी, चांडिल सहित दूर दराज से बड़ी संख्या में लोग पहुंचने लगे तो रवि सिंह ने अपने घर की छत पर स्थायी पंडाल बनाकर दरबार सजाने लगा। जहां सुबह आठ से रात दो बजे तक माइक पर गाने, ढ़ाेल बजाकर वह लोगों को कथित तौर पर चंगई करने लगा। उसका अपना यूट्यूब चैनल भी है जिसमें उसके कई वीडियो अपलोड है।

दर्जन भर अविवाहित युवतियां रहती है साथ

रवि सिंह ने दर्जन भर अविवाहित युवतियों को अपने साथ रखा है जो उसके साथ उसके ही घर में ही रहती हैं। ये सभी अविवाहित युवतियां अलग-अलग राज्यों से जमशेदपुर आई हैं। ये युवतियां रवि सिंह के लिए संदेशवाहक से लेकर प्रार्थना करने का काम करती है। जब कोई उनसे मिलने जाते तो पहले युवतियां उन्हें पर्ची देती, जिसमें उन्हें अपना नाम, पता, मोबाइल नंबर, आने की वजह की पूरी जानकारी लिखवाते।

फिर पर्ची दूसरी युवती ले जाकर अंदर देती। उसके बाद ही संबधित व्यक्ति से मिला जाता था। स्थानीय लोगों का कहना है कि रवि ने अपने साथ कुछ आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों को भी रखा है, जो पहले जेल जा चुके हैं। इसलिए स्थानीय लोग डर से विरोध नहीं कर पाते।

गूगल पे, पेटीएम से लेता है पैसे

किसी आगंतुक से मिलने से पहले उनसे पैसे लिए जाते थे। यदि कैश नहीं है तो उन्हें गूगल पे, पीटीएम या दूसरे इलेक्ट्रानिक माध्यम से पैसे ट्रांसफर करने को कहा जाता है। फिर ट्रांसफर होने की सूचना पर ही वह आंगतुक से मिलता था। रवि का बैंक खाता साकची स्थित बैंक आफ इंडिया में संचालित है। रवि सिंह एक्सयूवी कार में चलता है और ठाठ-बाट की जिंदगी व्यतीत कर रहा है।

रविवार रात ही रवि सिंह पंजाब के चंडीगढ़ शहर से शादी कर शहर लौटा है। बताया जाता है कि युवती नेपाली है। वापस लौटने पर उनके लोगों ने रात 12 बजे जमकर आतिशबाजी की थी। मंगलवार को टेल्को स्थित सबुज संघ में रिसेप्शन रखा गया था। लेकिन इस बीच बवाल होने के कारण रिसेप्शन को छोटा कर अपने घर पर ही रखा है।

शिकायत के बावजूद नहीं होती कार्रवाई

स्थानीय लोगों का आरोप है कि रवि सिंह की पहुंच काफी ऊपर तक है इसलिए पुलिस भी उसे कुछ नहीं करती। रात दो-दो बजे तक माइक सेट पर गाने बजते रहते। शिकायत करने पर पुलिस आती भी तो घर के अंदर बुलाकर उनकी खातिरदारी होती और फिर पुलिस बिना कुछ कार्रवाई किए वापस लौट जाती।

Edited By: Jitendra Singh