जमशेदपुर, जासं : ड्रग्स का धंधा आदित्यपुर में लोगों का बर्बाद करने को कम पड़ रहा था। सो क्षेत्र में एक शराब दुकान भी खोल दी गई ताकि वहां पूरे दिन नशेड़ियों का जमावड़ा लगा रहे। परेशान लोगों का रविवार को धैर्य जवाब दे गया। लोग नशे के विरुद्ध सड़क पर उतर आए। शराब दुकान खोलने का विरोध किया। हंगामा किया।

शराब दुकान के आसपास है मंदिर और स्कूल

सड़क जाम कर विरोध-प्रदर्शन किया। धरने पर बैठ गए। शराब दुकान हटाने की मांग पुलिस-प्रशासन से की गई। लाइसेंस निरस्त करने को लेकर लोग अड़े रहे। दुकान आदित्यपुर थाना से कुछ ही कदम की दूरी पर खोला गया है।  मंदिर और स्कूल भी आस-पास ही है। विरोध करने में महिलाएं भी शामिल है।

आदित्यपुर के हर क्षेत्र में हर तरह के नशे के सौदागर सक्रिय है

आदित्यपुर मुस्लिम बस्ती से सप्लाई होने वाली नशे की पुड़िया से कोल्हान का हर कोना प्रभावित हो रहा है। छोटे-छोटे बच्चों से लेकर स्कूल-कालेज और होटल-ढा़बो में काम करने वाले मजदूर तक नशे की गिरफ्त में है। नशे के सौदागर शिकार बनाकर लाखों की कमाई कर रहे है।

नशे के गिरफ्त में हैं ज्यादातर आदित्यपुर के युवा

20 से 30 साल के युवा नशे का ज्यादा शिकार हो रहे हैं। नशा करने के लिए पहले तो घर से पैसे लेते हैं। जब घर के पैसे खत्म हो जाते हैं तो फिर घर का सामान बेचना शुरू कर देते हैं। इसके बाद लूटपाट, चोरी, ठगी करने लगते है। रिश्तेदारों से रुपये की मांग की जाती है। अपराध की ओर कदम इनके बढ़ने लगते है। आदित्यपुर का हर सुनसान इलाका नशेड़ियों की अड्डा बन गया है। आदित्यपुर का फुटबाल मैदान हो या पीएचडी भवन के खंडहर क्वार्टर। रेलवे लाइन क्षेत्र हो। स्कूल के जर्जर भवन परिसर में नशे के रैपर से भरे पड़े है। आदित्यपुर पुलिस इसपर कुछ नहीं कर रही है।

Edited By: Sanam Singh