जमशेदपुर, जासं। मानगो हिलव्यू कालोनी निवासी रौशन रजक पर विगत नौ मई को कार पर सवार मेडिकल छात्रों ने बेरहमी से पिटाई कर दी थी। घटना में उसकी आंख की रोशनी चली गई जिसको लेकर स्वजन परेशान है। छात्रों पर एमजीएम थाना की पुलिस कोई कार्रवाई नहीं की। सोमवार को स्वजन रौशन रजक को साथ लेकर एसएसपी कार्यालय पहुंचे। पूरे मामले की जानकारी एसएसपी को दी। घायल के भाई सूरज रजक ने बताया अब तक एक लाख रुपये से अधिक खर्च इलाज में हो चुके है। भाई को शंकर नेत्रालय में इलाज के लिए ले जाने की सलाह जमशेदपुर के चिकित्सक ने दी थी। वहां इलाज कराया कोई सुधार नहीं हुआ। पुलिस कार्रवाई करें।

आंखों की रौशनी चली गई

घटना के दिन सुबह पांच बजे रौशन रजक प्रत्येक दिन की तरह मार्निंग वाक के लिए जा रहे थे। एमजीएम मेडिकल कालेज के मुख्य द्वार के सामने काले रंग की कार में सवार चार लड़के गोकुल नगर के एक व्यक्ति की पिटाई कर रहे थे। यह देख रौशन वहां पहुंचे। बीच-बचाव करते हुए मारपीट नहीं करने का आग्रह किया। चारों लड़के नशे में धुत थे, चारों रौशन के ऊपर टूट पड़े और बीयर के बोतल से हमला कर दिया जिससे आंख में गंभीर चोट लगी थी। आंख की रोशनी बचाने के लिए रोशन के स्वजनों ने काफी रुपये खर्च किए। संपत्ति बेचने को विवश हुए। बेहतर इलाज के लिए कोलकाता शंकर नेत्रालय लेकर गए जहां चिकित्सकों ने कहा कि रौशन की आंख की रोशनी नहीं आ सकती। रौशन का एक छोटा बच्चा है और रौशन ही पूरा परिवार का भरण-पोषण चालक का काम कर करते थे। रौशनी चले जाने के कारण वे बेराजगार हो गए। इलाज को पैसे भी नहीं है। रौशन ने एमजीएम थाना में कार सवारों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई थी। आशंका जताई थी कि कार सवार चारों लड़के मेडिकल कालेज के छात्र हैं जो घटना के बाद से अपनी गाड़ी कहीं हटा दिए हैं। घायल की मां रीता देवी ने मामले की जानकारी भाजपा नेता विकास सिंह को दी। मामले से अवगत कराया। भाजपा नेता ने बताया आरोपितों की गिरफ्तारी नहीं हुई तो एसएसपी से मिलेंगे। सड़क पर उतरेंगे। इधर, एमजीएम थाना प्रभारी मिथलेश कुमार सिंह ने बताया पुलिस आरोपितों की पहचान को प्रयासरत है।

Edited By: Madhukar Kumar