जमशेदपुर : बागबेड़ा थाना क्षेत्र का रहने वाले एक होमगार्ड जवान अपनी करतूत को लेकर एक बार फिर सुर्खियों में है। बिष्टुपुर थाना क्षेत्र आर्मरी ग्राउंड रोड के पास वसूली करने के कारण लोगों ने पकड़ लिया। उसके साथ मारपीट भी की। बचाव करने के लिए जवान ने अपने पास रखे कागज निकालें। कहा वह इलाज कराने जा रहा था। लोगों ने उसे छोड़ दिया। किसी ने उसके विरुद्ध थाना में या विभाग में शिकायत नहीं की। कुछ दिन पहले जवान एमजीएम मेडिकल कालेज में ड्यूटी पर था। जवान अपनी हरकत को लेकर विभाग में भी चर्चित है। एमजीएम मेडिकल कालेज में डयूटी में रहने के दौरान वह डिमना चौक से पटमदा की ओर जाने वाले वाहनों को रोक लेता था। कागजात चेकिंग का झांसा देकर रुपये की वसूली कर लेता था। शिकायत के बाद ही उसे वहां से हटा दिया गया था। इससे पहले सदर अस्पताल में था।

जवान के पास वाहन नहीं है। अक्सर वह बाइक वाले से लिफ्ट मांग सवार हो जाता है। इसके बाद बीच रास्ते में उससे वाहन के कागजात और ड्राइविंग लाइसेंस की मांग कर फंसा देने की धमक देकर रुपये वसूली कर लेता है। बुधवार को सुबह उसने बिष्टुपुर में कुछ ऐसा ही किया। लोगों ने उसे पकड़ लिया। पिटाई कर दी। पैंट तक उतरवा दी। उसका वीडियो भी लोगों ने बनाया और वायरल कर दिया। जवान को बागबेड़ा और जुगसलाई के हर लोग जानते है।

----------

मनप्रीत पाल सिंह की हत्या मामले में एक और गिरफ्तार

जमशेदपुर: सिदगोड़ा में मनप्रीत पाल सिंह की हत्या मामले में सिदगोड़ा थाना की पुलिस ने निलेश महंती उर्फ निलेश बंगाली को गिरफ्तार किया है। उसने हत्या के दिन मनप्रीत पाल सिंह की रेकी थी। घटना के दौरान वह युवक के घर के पीछे की ओर खड़ा था। अपने साथी राहुल सिंह, राहुल गुप्ता, गौरव गुप्ता, नवीन सिंह और अक्षय सिंह के लिए रेकी कर रहा था। आरोपित सीतारामडेरा थाना क्षेत्र भालूबासा का निवासी है। पूछताछ की कार्रवाई के बाद बुधवार को पुलिस ने उसे अदालत में प्रस्तुत किया जहां से उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। आरोपित कालेज में पढ़ाई करता है।हत्या मामले में पुलिस ने राहुल सिंह, राहुल गुप्ता और गौरव गुप्ता को 48 घंटे के लिए रिमांड पर लिया था। तीनों से पूछताछ में निलेश महंती का नाम सामने आया था। आठ जून को मनप्रीत पाल सिंह की सिदगोड़ा थाना क्षेत्र शिव सिंह बागान एरिया एग्रिको पोस्ट आफिस के सामने घर में घुसकर अपराधियों ने गोली मार हत्या कर दी थी। हत्या में पुलिस ने राहुल सिंह, राहुल गुप्ता, अक्षय सिंह और नवीन सिंह को गिरफ्तार किया था। हत्या के दिन पुलिस ने घटनास्थल से 10 खोखा और कारतूस बरामद किया था। अपराधियों की गिरफ्तारी के बाद तीन पिस्तौल बरामद किए गए थे।

Edited By: Sanam Singh