जमशेदपुर : देश भर में हर दिन 40 करोड़ यात्री ट्रेन से सफर करते हैं। कोविड 19 के कारण रेलवे बोर्ड ने यात्री सुविधाओं में कटौती करते हुए उन सभी सुविधाओं पर रोक लगा दी थी जिससे कोविड 19 का संक्रमण फैलने का खतरा था। लेकिन कोविड 19 का संक्रमण कम होते हुए रेलवे बोर्ड अब उन सभी सुविधाओं को बहाल करने की तैयारी कर रही है ताकि यात्रियों की परेशानी कम हो सके।

टाटा-विशाखापट्टनम एक्सप्रेस में शुरू होगी कैटरिंग की सुविधा

कोरोना का संक्रमण कम होने के बाद रेलवे बोर्ड ने यात्री ट्रेनों में कैटरिंग सुविधा के तहत पका हुआ भोजन परोसने का आदेश जारी कर दिया है। ऐसे में टाटा से चलकर विशाखापट्टनम को जाने वाली 08189-90 एर्नाकुलम एक्सप्रेस में यात्रियों को कैटरिंग की सुविधा मिलेगी।

इसके लिए इंडियन रेलवे केटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन लिमिटेड (आईआरसीटीसी) के जेजीएम सुदिप्तो मुखर्जी के आदेश से अस्थायी टेंडर जारी कर दिया है। नया अस्थायी टेंडर 22 नवंबर से 21 मई तक के लिए प्रभावी होगा।

कैटरिंग कर्मचारियों का छिन गया था रोजगार

टेंडर नई दिल्ली की कंपनी मेसर्स दून कैटरर्स को दिया गया है। ऐसे में वाणिज्य विभाग ने ट्रेन में चलने के लिए कैटरिंग स्टाफ के लिए ट्रेवलिंग ऑथिरिटी पास जारी करने को कहा गया है। कोविड 19 के बाद से रेलवे बोर्ड ने सभी ट्रेनों में कैटरिंग की सुविधा बंद कर दी थी जिसके कारण कैटरिंग कर्मचारियों का रोजगार छिन गया था। सभी ट्रेनों में कैटरिंग की व्यवस्था फिर से बहाल होने पर यात्रियों के साथ-साथ कर्मचारियों में भी खुशी का माहौल है।

सभी ट्रेनों में शुरू होगी कैटरिंग की व्यवस्था

इस मामले में रेलवे बोर्ड के प्रिंसिपल चीफ कॉमर्शियल मैनेजर सुमित सिंह ने आदेश जारी किया है जिसके तहत अब राजधानी, शताब्दी, वंदे मातरम, तेज और सभी गतिमान ट्रेनों में कैटरिंग व्यवस्था को पुन: बहाल करने के लिए आदेश जारी कर दिया है। ऐसे में अब यात्रा के दौरान यात्रियों को अपने साथ घर से भोजन लाने की जरूरत नहीं होगी।

Edited By: Jitendra Singh