जमशेदपुर। अहमदाबाद व लखनऊ आईपीएल फ्रेंचाइजी के दौर में सबसे आगे चल रहा है। गौरतलब है कि आईपीएल में दो नई टीमों के लिए बोली प्रक्रिया 25 अक्टूबर को होने की संभावना है, जिसमें दो सबसे अधिक बोली लगाने वाले फ्रेंचाइजी अधिकार लेने के लिए तैयार हैं। अगले साल से आईपीएल 10 टीमों का टूर्नामेंट बन जाएगा। बीसीसीआई ने पहले इच्छुक पार्टियों के लिए बोली पत्र लेने की अंतिम तिथि 20 अक्टूबर तक बढ़ा दी थी।

शुरुआत में बीसीसीआई ने छह शहरों अहमदाबाद, लखनऊ, कटक, गुवाहाटी, रांची और धर्मशाला को दो नई टीमों के लिए आधार के रूप में चुना था।

गौतम अदानी से लेकर मैनचेस्टर यूनाइटेड के मालिक रेस में 

बीसीसीआई के एक शीर्ष अधिकारी ने बताया कि भारतीय बहुराष्ट्रीय समूह अदानी समूह को अहमदाबाद की बोली लगाने को तैयार है, जबकि प्रीमियर लीग के दिग्गज मैनचेस्टर यूनाइटेड के मालिक ग्लेजर फैमिली ने भी बोली लगाने वाले डॉक्यूमेंट लिए हैं।

इच्छुक पार्टियां, जिन्होंने बोली-पत्र प्राप्त किए हैं, वे हैं:

  • संजीव कुमार - आरपीएसजी।
  • ग्लेजर परिवार - मैनचेस्टर यूनाइटेड के मालिक।
  • अदानी समूह।
  • नवीन जिंदल - जिंदल पावर एंड स्टील।
  • टोरेंट फार्मा।
  • रोनी स्क्रूवाला।
  • अरबिंदो फार्मा।
  • कोटक समूह।
  • सीवीसी पार्टनर्स।
  • सिंगापुर स्थित पीई फर्म।
  • हिंदुस्तान टाइम्स मीडिया।
  • प्रसारण और खेल परामर्श एजेंसियां ​​आईटीडब्ल्यू, ग्रुप एम।

दो टीमें बेचकर बीसीसीआई कमाएगी 10 करोड़ रुपए

बीसीसीआई टीमों की नीलामी कर कम से कम 7000 करोड़ से लेकर 10,000 करोड़ कमाने की तैयारी कर रही है। बीसीसीआई ने वैसे संघों और कंपनियों को ही बोली लगाने की अनुमति दी है, जिसका वार्षिक टर्नओवर 3000 करोड़ का हो। नई टीम का बोली लगाने का बेस प्राइस 2000 करोड़ रखा गया है। बोली लगाने के लिए टेंडर आमंत्रण पत्र दस लाख रुपए में खरीदा जा सकता है।

पहले भी हो चुका है आईपीएल का विस्तार

आईपीएल का विस्तार कोई नया प्रयोग नहीं है। पुणे वॉरियर्स इंडिया और कोच्चि टस्कर्स केरल दोनों फ्रेंचाइजी समाप्त होने से पहले 2010 में लीग में शामिल हुए थे। चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स के लीग से निलंबन के दौरान, राइजिंग पुणे सुपरजायंट और गुजरात लायंस अस्थायी प्रतिभागियों के रूप में लीग में शामिल हुए।

Edited By: Jitendra Singh