संवाद सूत्र, जादूगोड़ा : बीडीओ मुसाबनी सीमा कुमारी की अध्यक्षता में जिला परिषद सदस्य, मुसाबनी अंश-18, बाघराय मार्डी यूसिल प्रबंधन, संवेदक यूसिल तथा यूसिल के सुरक्षा कर्मियों के बीच वेतन विसंगति एवं अन्य समस्याओं को लेकर त्रिपक्षीय वार्ता हुई। बैठक में प्रखंड विकास पदाधिकारी द्वारा 13 मार्च, 2021 को हुई त्रिपक्षीय वार्ता में लिए गए निर्णय के आलोक में यूसिल प्रबंधन से पुष्टि की गई। जिसके प्रतिउत्तर में यूसिल प्रबंधन द्वारा बताया गया कि पूर्व की बैठक में लिए गए निर्णय के आलोक में सभी सुरक्षा कर्मियों को पे स्लिप निर्गत करने की कार्रवाई शुरू कर दी गई है। यूसिल प्रबंधन द्वारा बताया गया कि बाघराय मार्डी, जिला परिषद सदस्य, अंश-18 मुसाबनी द्वारा सुरक्षा कर्मियों के वेतन, बोनस, पीएफ एवं अन्य मानदेय की विसंगतियों के संबंध में उठाए गए बिंदुओं की जांच बिजिलेंस से कराई गई है। जांच में पाया गया है कि यूसिल के संवेदक द्वारा सुरक्षा कर्मियों को पीएफ धुलाई भत्ता एवं बोनस का कम भुगतान किया गया है। बैठक में अंतर 729 रुपये एवं विविध कटौती-1080 रुपये के संबंध में स्थिति स्पष्ट करते हुए कुल 18,090 रुपये प्रतिमाह की दर से बकाया 24 महीने की राशि सुरक्षा कर्मी को भुगतान करने का निर्देश संवेदक को दिए गए। संवेदक द्वारा जो बकाया राशि की गणना की जा रही है वह प्रथम दृष्टय में त्रुटिपूर्ण लगती है। बकाया भुगतान का प्रत्येक सुरक्षा कर्मी गणना करने हेतु यूसिल को जबाबदेही लेने का निर्देश दिए गए, ताकि उनके संवेदक द्वारा सभी बकाया भुगतान सुरक्षा कर्मियों को किया जा सके। चर्चा में यह सामने आया कि संवेदक के कार्यकाल में दो कर्मियों की मृत्यु हई है और उन्हे मेडिक्लेम का लाभ नहीं मिला है। इस संबंध में भी यूसिल प्रबंधन संवेदक के दस्तावेजों की जांच करेंगे। यूसिल प्रबंधन द्वारा 10 यूसिल सुरक्षा कर्मियों को प्रतिमाह 18 दिन कार्य पर रखने के संबंध में कोई ठोस जवाब नहीं दिया गया। इस संबंध में प्रतिवेदित करने का निर्देश यूसिल को दिया गया। बैठक में यह भी सामने आया कि संवेदक द्वारा सुरक्षा कर्मियों के पीएफ का केवाईसी स्वीकृत नहीं किया जा रहा है। ताकि सभी कर्मियों का पीएफ उनके खाता में दिखे। इस संबंध में यूसिल प्रबंधक एवं संवेदक को 15 दिनों के अंदर इसका समाधान करने का निर्देश दिए गए। बैठक में प्रशिक्षण के नाम पर प्रमाण पत्र निर्गत करने हेतु सभी सुरक्षा कर्मियों से एक-एक हजार रुपये संवेदक द्वारा वसूलने की बात भी सामने आई है। इस संबंध में संवेदक कोई जवाब नहीं दे सके। इसे भी स्पष्ट करने का निर्देश संवेदक को दिया गया। बेठक में यूसिल प्रबंधन से राकेश कुमार, एसके सेनगुप्ता, एस हेंब्रम, एमके साहु आदि उपस्थित थे।

Edited By: Jagran