जमशेदपुर (जागरण संवाददाता)। कोरोना वायरस जैसी वैश्विक महामारी में चिकित्सकों पर हो रहे हमले को लेकर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आइएमए) राष्ट्रीय शाखा ने कड़ा विरोध दर्ज कराया है।

जमशेदपुर आइएमए शाखा के अध्यक्ष डॉ. मृत्युंजय सिंह ने बताया कि चिकित्सक अपनी जान की बाजी लगाकर मरीजों की जिंदगी बचाने को मैदान में डटे है और उनके द्वारा लगातार हमला किया जा रहा है। उन्होंने उत्तर प्रदेश सहित कई राज्यों का उदाहरण दिया।

इसके विरोध में 23 अप्रैल को काला दिवस के रूप में मनाया जाएगा। उस दिन सभी डॉक्टर काला बिल्ला लगाकर काम करेंगे। वहीं 22 अप्रैल की शाम में सभी डॉक्टर रात के नौ बजे अपने क्लिनिक में मोमबत्ती जलाकर अपना विरोध दर्ज कराएंगे।

इस बाबत राष्ट्रीय आइएमए ने व्हाईट अलर्ट जारी किया है। आइएमए की मांग है कि डॉक्टर और अस्पताल के कर्मियों के विरुद्ध अमर्यादित व्यवहार, मारपीट और अस्पतालों में तोडफ़ोड़ की घटना तत्काल बंद होनी चाहिए।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस