जागरण संवाददाता, जमशेदपुर : चाइल्ड पोज योग इसे बालासन योग भी कहा जाता है। योग विज्ञान का यह विशेष आसन है। चाइल्ड पोज आसन के कई फायदे हैं। यदि शरीर की खोई उर्जा को दुबारा प्राप्त करना है तो चाइल्ड पोज का नियमित अभ्यास करें। रूमा शर्मा बताती हैं कि चाइल्ड पोज शरीर की उसी स्थिति में आ जाता है, जिस स्थिति में शिशु माता के गर्भ में रहता है। इस संबंध में जमशेदपुर की योग एक्सपर्ट रूमा शर्मा बता रही हैं चाइल्ड पोज के फायदे, करने की विधि व सावधानियां।

जानिए क्या है चाइल्ड पोज योग

चाइल्ड पोज योग असल में योग करने के दौरान योगियों द्वारा विश्राम करने की मुद्रा है। इस मुद्रा में योगी का शरीर भ्रूण की स्थिति में चला जाता है। चाइल्ड पोज मूल रूप से जांघों को सुडौल बनाने और कमर दर्द को दूर करने में मदद करता है। योग एक्सपर्ट रूमा शर्मा कहती हैं कि यदि इस आसन का अभ्यास पूरी तरह गुरूत्व बल के विपरीत किया जाए तो कोई भी व्यक्ति आसानी से मानसिक, शारीरिक और भावनात्मक राहत पा सकता है।

चाइल्ड पोज योग करने के फायदे

चाइल्ड पोज योग करने से शरीर की खोई हुई उर्जा को प्राप्त करने के साथ ही शांति प्राप्त करने वाला आसन माना जाता है। यह आसन करने से शरीर को आराम व ताजगी देता है। इस आसन को करने से रीढ़ की हड्डी या स्पाइनल में राहत मिलता है। यह मांसपेशियों को राहत देता है और पीठ दर्द को दूर करने में मदद करता है। खास तौर पर तब जब यह दर्द कमर, गर्दन और कंधों में हो रहा हो। इसके अलावा चाइल्ड पोज योग करने से सीने, कमर, कंधों और टेंशन को दूर करने में मदद करता है। चाइल्ड पोज योग थकान को दूर करता है। स्ट्रेस और एंग्जाइटी को दूर करता है। चाइल्ड पोज योग पेट के भीतर के अंगों को भी मसाज करता है, जिससे पेट के अंग अच्छा से काम करने लगता है।

चाइल्ड पोज योग करने का सही तरीका

एक योग मैट पर घुटनों के बल बैठ जाएं, दोनों टखने और एड़ियों को आपस में छुआएं, धीरे-धीरे अपने घुटनों को बाहर की तरफ जितना हो सके फैलाएं। गहरी सांस खींचकर आगे की तरफ झुकें। पेट को दोनों जांघों के बीच ले जाएं और सांस छोड़ दें। अब कूल्हे को सिकोड़ते हुए नाभि की तरफ खींचने की कोशिश करें। भीतर जांघों पर स्थिर हो जाएं, सिर को गर्दन के थोड़ा पीछे से उठाने की कोशिश करें, हाथों को सामने की तरफ लाएं और उन्हें अपने सामने रख लें, दोनों हाथ घुटनों की सीध में ही रहेंगे। दोनों कंधों को फर्स पर छुआने की कोशिश करें। आपके कंधों का खिंचाव शोल्डर ब्लेड से पूरी पीठ में महसूस होना चाहिए। इस स्थिति में 30 सेकेंड से लेकर कुछ मिनट तक बने रहें। धीरे-धीरे सांस लें और सामान्य हो जाएं।

Edited By: Rakesh Ranjan