जमशेदपुर, जागरण संवाददाता। पूर्वी सिंहभूम जिले के सोनारी थाना में अजीबोगरीब मामला पहुंचा है जिसके निपटारे में पुलिस को 12 दिनों तक लंबी मशक्कत करनी पड़ी।  शादीशुदा बलदेव सिंह ने किन्नर से संबंध नहीं तोड़ा। पत्नी कोमल सिंह को ही घर से निकाल दिया। दोनों बच्चों को अपने पास रख लिया। हालांकि पुलिस दबाव पर पति ने दोनों बच्चों को कोमल सिंह को सौंप दिया। मामला सोनारी कुम्हारपाड़ा बस्ती का है। इसके पहले कोमल सिंह ने सोनारी थाना प्रभारी के नाम एक आवेदन दिया था। जिसमें उसने अपने पति बलदेव सिंह पर आरोप लगाया कि वर्ष 2010 शादी के पहले से उनके मुकेश बाबा नाम के एक किन्नर से अनैतिक संबंध थे।

शादी के बाद भी वे उसके साथ न रहकर किन्नर मुकेश बाबा के साथ ही रहते थे। जिसका वह विरोध करती तो उसके साथ पित मारपीट किया करता था। कोमल सिंह का कहना है कि 1 दिसंबर 2010 को उसकी शादी बलदेव सिंह के साथ हुई थी। उसके बाद से वह पति के घर में आकर रहने लगी जहां पहले से पति के मकान में मुकेश बाबा नाम का किन्नर रहता था। वह टाटा स्टील कर्मी है। माता का भक्त है। झाड़-फूंक भी करता है। कोमल सिंह ने पुलिस को दी गई शिकायत में बताया एक दिन उन्होंने पति की गैर हरकतों को मुकेश बाबा के साथ देख लिया था। पति के साथ उसके अप्राकृतिक संबंध भी उसने देखें। इन सारी बातों को उसने अपने परिजनों और रिश्तेदारों को बताया।

टाटा स्टील कर्मी है मुकेश बाबा

सामाजिक स्तर पर एक समझौता हुआ, जिसके बाद से पति उसके साथ रहने लगे लेकिन कुछ दिन के बाद वे फिर से मुकेश बाबा से संबंध बनाते रहते थे। इस बीच कोमल सिंह ने 2 बच्चों को जन्म दिया एक पुत्र और पुत्री। जब दोनों कुछ आठ 10 वर्ष के हुए तो मुकेश बाबा उन बच्चों के साथ भी अनैतिक कार्य करने लगा। पति से शिकायत करने पर वे हल्ला हंगामा और मारपीट करते थे। कहते कि मुकेश बाबा टिस्कोकर्मी है। उसका कोई नहीं है। उसके मरने के बाद सारी संपत्ति उसकी अपनी होगी, लेकिन कोमल सिंह ने इसे स्वीकार करने से इंकार कर दिया। पति की हरकतों के बारे में फोन पर दोस्तों को जानकारी दी। पति ने सात अक्टूबर 2021 को मारपीट कर उसे घर से निकाल दिया और दोनों नाबालिग बच्चों को अपने पास रख लिया। उसके बाद से पति-पत्नी के बीच विवाद चल रहा था। मामला सोनारी थाना पहुंचा। जहां सोनारी पुलिस के हस्तक्षेप के बाद दोनों बच्चों को कोमल सिंह के हवाले कर दिया गया।

Edited By: Rakesh Ranjan