जागरण संवाददाता, जमशेदपुर। अगले साल होने वाले हज के लिए गुरुवार से शुरू होने वाले ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराने की आखिरी तारीख 17 नवंबर तय की गई है। आगामी हज की फ्लाइट एक जुलाई से तीन अगस्त तक जारी रहेंगी। आवेदकों को पहले ऑनलाइन फार्म डाउनलोड करना होगा और इसके बाद इसे ऑनलाइन भरना होगा। जमशेदपुर में साकची जामा मस्जिद और मदरसा फैजुल उलूम के हज खिदमात सेंटर में विशेषज्ञ बैठाए गए हैं जो ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन में आवेदकों की मदद करेंगे।

केंद्रीय हज कमेटी ने हज 2019 की कार्ययोजना जारी कर दी है। दिसंबर में केंद्रीय हज कमेटी का एक प्रतिनिधिमंडल सऊदी अरब जाएगा जहां हज से संबंधी शर्तें तय होंगी। जनवरी तक हाजियों की खिदमत करने वाले खादिमउल हुज्जाज का चयन कर लिया जाएगा। जनवरी के आखिरी हफ्ते तक हज की उड़ान के लिए एयरपोर्ट और एयरलाइंस का चुनाव कर लिया जाएगा।

17 नवंबर से पहले का पासपोर्ट तभी करें आवेदन
आजमीन-ए-हज तभी आवेदन कर सकते हैं जब उनके पास इस साल 17 नवंबर से पहले जारी पासपोर्ट होगा। पासपोर्ट की वैधता 31 जनवरी 2020 तक होनी चाहिए। को पहली किस्त के 81 हजार रुपये जनवरी के अंत तक जमा करने होंगे। दूसरी किस्त, जमा करने की आखिरी तारीख 15 अप्रैल है। आजमीन ए हज को 31 जनवरी तक पासपोर्ट जमा करना होगा। अगर कोटा से ज्यादा आजमीन ने आवेदन किया। तो आवेदन निरस्त होने पर पांच फरवरी को प्रतीक्षा सूची के आजमीन को कंफर्म किया जाएगा। केंद्रीय हज कमेटी 22 फरवरी को फ्लाइट शेड्यूल जारी कर देगी।

लिए जाएंगे आफलाइन आवेदन
हज कमेटी के निर्देश के अनुसार राज्य हज कमेटी के दफ्तर में 22 अक्टूबर से 17 नवंबर तक हाथ से भरे हुए आफलाइन आवेदन लिए जाएंगे। अगले साल 10 या 11 अगस्त को हज होगा। हज के बाद 14 अगस्त से 17 सितंबर तक हाजियों की वापसी की उड़ानें होंगी। 

सोच-समझ कर भरें श्रेणी
ऑनलाइन आवेदन भरते समय एयरपोर्ट, हज के दौरान ठहरने की श्रेणी और अदाही का चुनाव सोच समझ कर करें। इसमें बाद में बदलाव संभव नहीं होगा। कोटा से ज्यादा आवेदन होने पर आजमीन के चयन के लिए दिसंबर के अंत में लॉटरी से होगी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस