जमशेदपुर, जागरण संवाददाता।  गांधी मैदान से शुक्रवार को नमाज के बाद 15 आजमीन-ए-हज रांची के लिए रवाना हुए। ये आजमीन-ए-हज शनिवार को रांची एयरपोर्ट से सऊदी अरब के लिए रवाना होंगे। ये आजमीन मक्का मोअज्जमा में हज के अरकान अदा करने के बाद मदीना मुनव्वरा में जाकर गुंबद-ए-खजरा की ज्यारत भी करेंगे।

गांधी मैदान में जुमा की नमाज के बाद हाजियों की विदाई का कार्यक्रम कुरआन करीम की तिलावत से शुरू हुआ। तिलावत बारी मस्जिद के पेश इमाम हाफिज अब्दुल जब्बार ने की। इसके बाद मो. रहमान ने नात पाक पढ़ी। नात पाक सुन कर लोग झूम उठे। आजमीन-ए-हज को विदा करने के लिए महिलाएं भी आई थीं। आगे की कुर्सियों पर सात मर्द आजमीन और आठ महिला आजमीन को बैठाया गया था। संस्था इत्तेहादुल मुस्लेमीन के सदर हाजी फिरोज खान और हाजी मो. फारूख ने तलबिया पढ़ा तो लोगों ने लब्बैक अल्ला हुम्मा लब्बैक के नारे लगाए। बाद में आजमीन को टोपी, तस्बीह और जानमाज तोहफे में दी गई।

महिलाओं ने भेजे दुआ के पर्चे

इसके बाद सामूहिक दुआ हुई। दुआ में मुल्क व लोगों के लिए दुआ की गई। महिलाओं ने दुआ के 124 पर्चे भेजे। कार्यक्रम में डा. अफरोज ने धन्यवाद ज्ञापन किया। सभी ने आजमीन से हाथ मिला कर और उन्हें गले लगा कर रुखसत किया। आजमीनों ने अस्र की नमाज रड़गांव में पढ़ी। सभी आजमीन हज हाउस पहुंच गए हैं। कार्यक्रम में शाकिर खान, मुजाहिद खान आदि थे।

गंगा-जमुनी तहजीब का नमूना है गांधी मैदान

 इस मौके पर कांग्रेस के प्रवक्ता डा. अजय कुमार मुख्य अतिथि थे। उन्होंने कहा कि गांधी मैदान गंगा जमुनी तहजीब की मिसाल है। उन्होंने आजमीन-ए-हज को मुबारकबाद पेश की। उन्होंने कहा कि लग रहा है पूरा ¨हदुस्तान सिमट कर गांधी मैदान में जमा हो गया है।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस