सोनुआ (संवाद सूत्र)। गुदड़ी प्रखंड के बुरुगुलीकेरा गांव में हुए नरसंहार मामले की जांच के लिए गठित स्‍पेशल इन्‍वेस्टिगेटिव टीम आखिकार बुरुगुलीकेरा गांव पहुंच गई। शनिवार को एसआईटी टीम ने लगातार दूसरे दिन नरसंहार में मारे गए लोगों के परिजनों से बात कर घटना की जानकारी ली।

मृतक उपमुखिया के परिजनों और अन्य मृतकों के रिश्‍तेदारों से बात कर हत्याकांड के पीछे वास्‍तविक कारण जानने का प्रयास किया। बताया जाता है कि इस दौरान टीम ने अहम सुराग भी जुटाये हैं। एसआईटी टीम ने शुक्रवार को जांच शुरू की थी। दूसरे दिन के जांच में भी टीम को कई अहम सबूत मिले हैं। जांच के दौरान एसपी इंद्रजीत महथा भी एसआईटी टीम के साथ रहे और टीम का सहयोग किया।

 

एसआईटी और एफएसएल टीम ने शनिवार को जांच के क्रम में आपस में कई बिंदुओं पर बात भी की।  एसआईटी टीम ने रांची से आयी एफएसएल टीम को शनिवार को मौके पर जांच के क्रम में सहयोग किया। इस दौरान दोनों टीम के साथ एसपी इंद्रजीत महथा ने भी चर्चा की।  

गुलीकेरा पंचायत भवन में बन रहा पुलिस पिकेट

गांव की सुरक्षा व्यवस्था के लिये गुलीकेरा पंचायत भवन में पुलिस पिकेट बनाया जा रहा है। यहां झारखण्ड जगुआर फोर्स की तीन कंपनियां तैनात है। गांव में शनिवार को भी बड़ी संख्या में पुलिस और सीआरपीएफ के साथ ही अन्य सुरक्षा बल तैनात रहे। 

गांव में नहीं दिखाई दे रहे पुरुष

बुरुगुलीकेरा गांव में शनिवार को घरों में काफी कम लोग नजर आ रहे थे। गांव में पुरुष काफी कम नजर आ रहे थे। हत्‍याकांड के आरोपितों की गिरफ्तारी के लिये पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है। पुलिस की गिरफ्तारी से बचने के लिये शायद अधिकांश लोग गाँव छोड़कर भाग गये हैं। 

मोबाईल नेटवर्क नहीं होने से सेटेलाईट फोन से बात कर रहे पदाधिकारी

बुरुगुलीकेरा गांव में मोबाईल नेटवर्क नहीं होने से  एसपी और बड़े पदाधिकारी सेटेलाईट फोन से अपने उच्च पदाधिकारियों से बात करते दिखे। वहीं गांव में पिछले तीन-चार दिनों से तैनात सुरक्षा बलों के जवान मोबाईल नेटवर्क नहीं होने से अपने घर परिवार से संपर्क नहीं कर पाने से परेशान हैं। 

12 आरोपी सोनुआ थाना में, 3  दूसरी जगह शिफ़ट

हत्याकांड मामले में पुलिस द्वारा अबतक 15 आरोपियों को हिरासत में लिया गया है। इनमें से शुक्रवार को गांव से हिरासत में लिये गये 12 आरोपितों को सोनुआ थाना में रखा गया है। जबकि पहले दिन बुधवार को हिरासत में लिये गये राणसी बूढ़, जितेन्द्र बूढ़ और कोंजे बूढ़ को अन्य जगह रखा गया है।

एसआईटी टीम को दिया जा रहा मीडिया कवरेज का वीडियो

एसआईटी टीम को पुलिस मीडिया द्वारा कवरेज किया गया वीडियो भी सबूत के तौर पर उपलब्ध करा रही है। एसपी इंद्रजीत महथा ने बताया कि इससे टीम को जाँच में काफी सहयोग मिलेगा। ज्ञात हो कि बुधवार को पत्थलगड़ी समर्थक पूर्व मुखिया पति राणसी बूढ़ ने मीडिया चैनलों के सामने उपमुखिया जेम्स बूढ़ समेत सात लोगों की हत्या करने का बयान खुलेआम पदाधिकारियों के सामने दिया था। 

Posted By: Vikas Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस