जमशेदपुर (जागरण संवाददाता)। जमशेदपुर स्थित टिमकेन कर्मचारियों का ग्रेड व बोनस दोनों लटका हुआ है। विडंबना है कि प्रबंधन-यूनियन के बीच कई दौर की वार्ता हुई, लेकिन इसके बावजूद समझौता नहीं हो पाया है। कर्मचारियों का ग्रेड 42 माह से लंबित है, तो बोनस भी नहीं हो पाया है। यूनियन के आपसी विवाद में पहले मामला लटका, उसके बाद बोनस फार्मूला बनाने की जिद में मामला फंस गया। प्रबंधन बोनस करने से पूर्व फार्मूला बनाना चाहता था, जबकि यूनियन का कहना था कि पिछले साल की तर्ज पर कंपनी के मुनाफे का आकलन करते हुए समझौता होना चाहिए। बोनस में बिलंब होने की बात करते हुए यूनियन अगले साल फार्मूला बनाने की बात कर रही थी। ऐसे में आपसी सहमति नहीं बनने की वजह से बोनस भी नहीं हुआ। इधर दो दिन पूर्व बोनस पर प्रबंधन यूनियन की दोबारा वार्ता हुई है, उम्मीद है अब समझौता हो जाना चाहिए।

 

प्लांट के जीएम को पत्र लिखकर मान्यता की बताई बातें

टिमकन वर्कर्स यूनियन के अध्यक्ष आस्तिक महतो व महामंत्री गिरवरधारी ने जमशेदपुर प्लांट के जीएम गौरीशंकर राय को पत्र लिखकर ग्रेड व बोनस पर वार्ता शुरू करने की मांग की है। बीते शुक्रवार को ग्रेड रिवीजन, बोनस समेत तमाम लंबित मुद्दों पर वार्ता शुरू करने एवं यथाशीघ्र समझौता करने की बातें कही है। इसके साथ ही झारखंड सरकार के निबंधक श्रमिक संघ द्वारा उनके गुट को मान्यता देते हुए रजिस्टर-बी में नाम दर्ज करने संबंधी जारी आदेश की प्रति भी प्रबंधन को उपलब्ध कराई गई है। गिरवरधारी के मुताबिक प्रबंधन ने भी उन्हें जल्द ही तमाम मुद्दों पर वार्ता शुरू कर सुलझाने का आश्वासन दिया है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021