दिलीप कुमार, जमशेदपुर : लौहनगरी के लोग अपनी सेहत को लेकर सजग हैं। सेहतमंद शरीर के लिए यहां के लोग जिम और पार्क में रोज पसीना तो बहाते ही हैं, वहीं खानपान में भी विशेष सतर्कता बरतते हैं, तभी तो जमशेदपुर के लोग फ्रूट सलाद के दीवाने हैं। शहरवासी रसीले और गुणकारी फलों का मिश्रण बड़े ही चाव से खाते हैं। टेस्टी फ्रूट सलाद ही है जो न सिर्फ हेल्दी है बल्कि टेस्टी भी है और इससे पेट भी भर जाता है। यहां के लगभग हर बाजार और चौक चौराहों पर आपको फ्रूट सलाद की दुकान मिल जाएगी।

तरह-तरह के फ्रूट सलादों का रेट भी अलग-अलग है। प्रति प्लेट तीस रूपये से लेकर तीन सौ रूपये तक का फ्रूट सलाद यहां मिलता है। ताजे फल और सब्जिया विटामिन, खनिज और अन्य पोषक तत्वों का एक बहुत ही महत्वपूर्ण स्त्रोत है। ज्यादातर लोग अपनी डाइट में सलाद लेना पसंद करते हैं। उनके अनुसार ये काफी फायदेमंद होता है। फ्रूट सलाद कभी-कभी नुकसानदायक भी रहता है। लोगों में यह भ्रम रहता है कि सलाद में हमेशा कम कैलोरी होती है। मगर असलियत कुछ और ही है।

यह निर्भर करता है सलाद पर। नट्स, चीज या मायोनीज युक्त सलाद में कैलोरी की मात्रा चिप्स या बर्गर से भी अधिक हो सकती है। ऐसे में सलाद में फैट कितनी हद तक आवश्यक है, इसका बैलेंस बनाना भी जरूरी है। वहीं यह भी भ्रम भी लोगों में है कि फैट फ्री सलाद हमेशा सेहतमंद है। जबकि ऐसा जरूरी नहीं है। पत्तेदार सब्जियों और फलों के सलाद में बहुत अधिक मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं जिन्हें पचाने के लिए थोड़ा फैट्स जरूरी है। सलाद में ऑलिव ऑयल की ड्रेसिंग स्वास्थके लिए सुरक्षित और कारगर विकल्प हो सकती है।

ऐसे बनता फ्रूट सलाद फ्रुट सलाद
बनाने के लिए ताजे रसीले फलों के साथ काला नमक, नींबू का रस, काली मिर्च पाउडर आदि आवश्यक है। इसमें खासकर केला, पपीता, अनार, नारियल, अनानस, नासपाती, सेब, चुकंदर, चेरी, अमावट, खजूर, गाजर, खीरा, अमरुद, किशमिश, काजू आदि को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट कर उसे एक प्लेट में सजाया जाता है। सारे फलों को एक प्लेट में सजाकर उपर से काला नमक, काली मिर्च पाउडर और नींबू का रस मिलाकर परोसा जाता है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस