जमशेदपुर, जासं। इंटरनेट मीडिया पर इन दिनों अश्लील सामग्री की बाढ़ सी दिख रही है। फेसबुक व इंस्टाग्राम पर हर तीसरा पोस्ट अश्लील दिख जाता है। इसमें वीडियो एप के आकर्षक विज्ञापन भी खूब आ रहे हैं। इन सब बातों की शिकायत करने के लिए भारतीय जन महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष धर्मचंद्र पोद्दार नई दिल्ली जा रहे हैं, जहां वे केंद्रीय संचार व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव से मिलेंगे।

धर्मचंद्र पोद्दार ने बताया कि उन्होंने केंद्रीय संचार व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री को ईमेल के माध्यम से 13 सितंबर को पत्र भेजा था। इसमें भी उन्हें इंटरनेट मीडिया पर अश्लील सामग्री रोकने की मांग की थी। सभी सोशल साइट्स से अश्लील सामग्री को हटाने के संदर्भ में वार्ता के लिए समय देने के लिए भेजा था। इसके अलावा इस संबंध में रेल मंत्रालय से फोन आया कि मंत्री 14 अक्टूबर को दोपहर तीन बजे मिल सकते हैं। पोद्दार ने फोन करने वाले उस विभागीय कर्मचारी को बताया कि टाटानगर से नई दिल्ली पहुंचने में ट्रेन से करीब 24 घंटे लग जाते हैं। चूंकि इतने कम समय में टाटानगर से नई दिल्ली पहुंचना संभव नहीं है, इसलिए वे वहां आने के बाद फोन करके मिलने का प्रयास करेंगे। पोद्दार ने यह भी कहा कि मंत्री जी को बता दिया जाए कि कम से कम चार-पांच दिन पहले समय नियत किया जाए, जिससे पोद्दार रेल टिकट बनवाकर नई दिल्ली मिलने हेतु पहुंच सकें। अभी तक इसका जवाब नहीं मिला है। विदित हो कि संचार व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव रेल मंत्री भी हैं।

प्रधानमंत्री को भी भेजी प्रतिलिपि

पोद्दार ने बताया कि 21 अक्टूबर को ट्विटर के माध्यम से आईटी मंत्री को ट्वीट किया और उसकी प्रतिलिपि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देते हुए कहा कि 27-28 या 29 नवंबर को किसी भी समय मिलने का समय दिया जाए। पोद्दार ने अपने ट्वीट में यह भी लिखा कि 26 अक्टूबर को वे नई दिल्ली पहुंच रहे हैं, अतः इस बारे में सूचित किया जाए। अभी तक इसका भी कोई जवाब नहीं दिया गया है। इस मामले पर हमने बार-बार मेल किया है तो संचार व सूचना प्रौद्योगिकी विभाग को चाहिए कि मेल करके ही जानकारी दें। हम सभी सोशल साइट्स से सारी अश्लील सामग्री हटाने के लिए पिछले साल भर से प्रयासरत हैं। अनेकों बार ई-मेल से पत्र भेजे जा चुके हैं और ट्विटर के माध्यम से भी काफी कुछ लिखा जा चुका है। यह कार्य विभाग को स्वयं ही कराना चाहिए। हम आवाज उठा रहे हैं और बात करना चाह रहे हैं तो समय नहीं दिया जाना दुखद है। ऐसा प्रतीत होता है कि 14 अक्टूबर को मिलने के लिए जो समय फोन पर दिया गया था, वह केवल खानापूर्ति थी। पोद्दार ने कहा कि अब वे नई दिल्ली तो पहुंचेंगे ही, तीन दिन तक संचार व सूचना प्रसारण मंत्री से मिलने का प्रयास करेंगे। अगर उन्हें मिलने नही दिया गया, तो फिर इस पर विचार कर आगे की कार्रवाई सुनिश्चित की जा सकेगी।

Edited By: Rakesh Ranjan