जागरण संवाददाता, जमशेदपुर : नक्सलियों का गढ़ माने जाने वाले पटमदा के तुंगबुरु गांव में रोजगार मेला आयोजित कर जिला प्रशासन ने 500 युवाओं को रोजगार दिया। इन युवाओं को उपायुक्त अमित कुमार ने खुद नियुक्ति पत्र बांटे। इसके अलावा, 353 युवाओं की अलग सूची तैयार की गई है। ये सूची विभिन्न कंपनियों ने तैयार कराई है। इन युवाओं को जल्द ही रोजगार मिलेगा।

इन युवाओं को सोडेक्सो फूड सल्यूशंस लिमिटेड, टेक्सटाइल कंपनी वेल्सपन समेत कुल 17 कंपनियों में रोजगार मिला है। तुंगबुरु गांव में ही नक्सली कमांडर सचिन पायलट का घर है। यहां रोजगार मेला आयोजित कर जिला प्रशासन ने झारखंड सरकार की नीति में चार चांद लगा दिए हैं। प्रशासन ने युवाओं को संदेश दे दिया है कि उन्हें सरकार रोजगार दे रही है। इस संदेश का असर भी यहां देखा गया। रोजगार मेले में लोगों की भीड़ उमड़ी। इनमें युवाओं की खासी तादाद थी। इस रोजगार मेले में 17 कंपनियां आई थीं। डीसी अमित कुमार ने कहा कि ग्रामीण युवाओ को हमेशा रोजगार के लिए काफी भटकना है। इसी को मद्देनजर रखते हुए पटमदा में रोजगार मेला का आयोजन किया गया है। उन्होंने कहा कि ऐसे मेले लगातार लगते रहेंगे और गांवों के युवाओं को सरकार रोजगार देगी। जल्द ही घाटशिला के कालचीती में भी रोजगार मेला लगेगा। मेला का उद्घाटन सांसद विद्युत वरण महतो ने किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि सुदूर क्षेत्रो में युवाओ को कई अवसर दिया जाएगा। सभी को शिक्षा के साथ रोजगार भी दिया जाएगा। एसएसपी ने कहा की नक्सल क्षेत्रो में रोजगार के अवसर देने को प्रशासन प्रयासरत है। इस मौके पर पटमदा के बीडीओ सचिदानंद महतो, सीओ निवेदिता नियति, जिला श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी शशि भूषण झा, बीस सूत्री के अध्यक्ष बासुदेव मंडल , जिला पार्षद स्वपन महतो, महाबीर महतो, मुचिराम बाउरी आदि थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप