जमशेदपुर : रमजान के 29वें दिन चांद नजर नहीं आया, लिहाजा शुक्रवार को ईद उल फितर मनाने की तैयारी शुरू हो गई है। सामान्य तौर पर सऊदी में चांद नजर आने के दूसरे दिन भारत में चांद रात की परंपरा रही है। उस लिहाज से भारत में शुक्रवार को ईद होगा। 

घरों में ईद की नमाज का शरई हुक्म दे इमाम : रिजवी

रूहानी मर्कज के अध्यक्ष पूर्व विधायक हसन रिजवी ने उलेमाओं से घरों में ईद की नमाज अदा करने का शरई हुक्म जारी करने का आग्रह किया है। हसन रिजवी ने अफसोस जाहिर करते हुए कहा कि एक साल गुजर जाने के बाद अभी तक उलेमा इस मसले पर एकमत नहीं हो सके हैं कि घरों में ईद की नमाज जायज है कि नहीं।एक मसलक के मुताबिक घरों में ईद की नमाज अदा नहीं हो सकती है। दूसरा मसलक घरों में ईद की नमाज के पक्ष में है। कुछ उलेमा का सुझाव है कि ईद की नमाज की जगह दो रिकत नफिल पढ़ें तो कुछ उलेमा शुक्राने की नमाज अदा करने कह रहे हैं।

आंशिक लॉकडाउन के बावजूद ईद को लेकर जमकर हुई खरीदारी

 इसे लेकर बुधवार को ही शहर के मुस्लिम बहुल इलाकों में ईद की जमकर खरीदारी हुई। मानगो के आजादनगर में खरीदारी को लेकर काफी चहल-पहल रही। इसके अलावा धतकीडीह, गोलमुरी व टेल्को के बारीनगर में सुबह से दोपहर दो बजे तक ईद को लेकर बाजार में रौनक रही। सेवई के साथ सूखे मेवे की ज्यादा खरीदारी हुई। हालांकि कोरोना को लेकर कपड़े व जूते की दुकानें बंद रहीं, लिहाजा इसकी खरीदारी नहीं हो सकी।

मस्जिदों में सार्वजनिक नमाज नहीं पढ़ी जाएगी

मस्जिदों में भी सार्वजनिक रूप से नमाज नहीं पढ़ी जाएगी। मस्जिदों की विशेष सजावट भी नहीं की गई है। काफी पहले ही मस्जिद से घर में नमाज अदा करने का ऐलान कर दिया गया था। कोरोना को लेकर मस्जिदों से भी मास्क पहनने और शारीरिक दूरी का पालन करने की हिदायत दी गई है। जिला प्रशासन ने भी मुस्लिम धर्मगुरुओं के साथ बैठक करके पहले ही कोरोना संक्रमण का प्रसार रोकने में सहयोग का आग्रह किया जा चुका है।

Edited By: Jitendra Singh