जमशेदपुर (जागरण संवाददाता)। आने वाले समय पुलिस के लिए बड़ी चुनौती बनेगी इकनॉमी फ्राउड व साइबर अपराध। इससे निबटने के लिए पुलिस अपने आप को सशक्त बना रही है। इसी कड़ी में मंगलवार को जमशेदपुर में बैंक फ्राउड उससे बचाव में जांच विषय पर कार्यशाला का आयोजन किया गया है। यह कहना था कि  कोल्हान के ं डीआइजी कुलदीप द्विवेदी का।

उन्होंने बताया कि नेट का इस्तेमाल का दो आयाम हैं। उपयोग है तो कुछ का दुरूपयोग भी होता है। उन्होंने बताया कि इस तरह की चुनौती लगातार चलता रहेगा। इससे आम जनता को कैसे बचाना है। इस पर पुलिस पदाधिकारियों व कर्मचारियों को समय-समय पर कार्यशाला का आयोजन कर एक्सपर्ट बना दिया जाएगा। डीआइजी ने पुलिस पदाधिकारियों व कर्मचारियों से कहा कि यदि साइबर अपराध होता है तो इसके बचाव के लिए एक प्लेटफार्म तैयार करें। जिसमें एक्सपर्ट पुलिस, बैंक के कर्मचारी तथा नेट के माध्यम से जनता को सेवा प्रोवाड करने वालों को शामिल करें।

कभी भी बड़े साइबर अपराध की घटना होती है तो तत्काल एकजुट होकर कार्य करें ताकि साइबर अपराधी तत्काल गिरफ्त में आ सकें। उन्होंने बताया कि हर एक-दो माह में साइबर अपराध नए तरीके से हो रहे हैं। यह पुलिस के लिए चुनौती बनती जा रही है। ऐसी स्थिति से निबटने के लिए आईटी सेल, साइबर सेल, साइबर थाना को और तकनीकि तौर पर मजबूत किया जाएगा। 

इससे पूर्व बैंक से होने वाले धोखाधड़ी उससे बचाव व जांच के उपाय विषय पर एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन बिष्टुपुर स्थित एक्सएलआरआई प्रेक्षागृह में आयोजित की गयी। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर कोल्हान के डीआईजी कुलदीप द्विवेदी उपस्थित थे। कार्यक्रम का शुभारंभ दीप प्रज्जवलित कर किया गया। इस अवसर पर जमशेदपुर के एसएसपी अनूप बिरथरे, सिटी एसपी प्रभात कुमार, ग्रामीण एसपी सुभाष चंद्र जाट के अलावा आईसीआईसीआई बैंक के एक्सपर्ट श्रीराय चौधरी उपस्थित थे। 

इस अवसर पर साइबर एक्सपर्ट के रूप में कोलकाता से आए आईसीआईसीआई बैंक के जोनल हेड श्री राय चौधरी ने उपस्थित पुलिस पदाधिकारियों व कर्मचारियों को साइबर क्राइम हो जाने पर किस तरह जांच किया जा सके, किस तरीके से बैंक अधिकारियों से मिलकर साइबर अपराधियों को पकड़ा जा सके, इस संबंध में विस्तार से जानकारी दिया। उन्होंने बताया कि साइबर अपराधियों द्वारा आम लोगों से अपने आप को बैंककर्मी बताकर ठगी करने, एटीएम क्लोनिंग करने आदि अपराधों के बचाव के उपाय के बारे में विस्तृत जानकारी दिया। कार्यशाला को चंदन शाही (रीजनल हेड, आइसीआइसीआइ बैंक जमशेदपुर) के साथ इन्वेस्टिगेशन टीम के सदस्य इंद्रनील, सुशांत व मनोज कुमार ने भी संबोधित किया। 

Posted By: Rakesh Ranjan

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप