जमशेदपुर (जागरण संवाददाता)। नक्सली गतिविधयों में सक्रिय रहे डुमरिया एरिया कमांडर सोबन मार्डी व उसकी पत्नी उर्मिला मेलगांडी ने सोमवार को न्यायिक दंडाधिकारी प्रज्ञा वाजपेयी की कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया है।

पुलिस ने दोनों को अपने कस्टडी में लेकर जेल भेज दिया है। अधिवक्ता शिव शंकर प्रसाद ने दोनों नक्सलियों को कोर्ट में आत्मसमर्पण कराने की भूमिका निभाई। सूत्रों की माने तो सोबन मार्डी व उर्मिला मेलगांडी पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण होने चाहते थे। लेकिन पुलिस से संपर्क करने के बाद भी पुलिस इस मामले में सक्रिय नहीं दिखी तो दोनों पति पत्नी ने अधिवक्ता से संपर्क कर कोर्ट में आत्मसर्पण कर दिया। कोरोना संक्रमण के कारण यह पहली बार हुआ है कि जब कोई नक्सली आत्मसमर्पण करने को लिए कोर्ट के बाहर खड़ा था और पहले पीटीशन दाखिल किया गया और फिर कोर्ट का कर्मचारी कोर्ट के मुख्य गेट पर आकर दोनों नक्सलियों को अंदर लेकर पहुंचा।

सोबन मार्डी की बहन भी कर चुकी है आत्‍मसर्मपण 

यहां बता दें कि सोबन मार्डी की बहन तापरा मार्डी उर्फ सोमा मार्डी भी डुमरिया नक्सली दस्ता में शामिल थी लेकिन उसने कुछ वर्ष पहले आत्मसमर्पण कर दिया था कोर्ट से बरी होने के बाद अब वह एक संस्थान में नौकरी कर अपना जीवन यापन कर रही है।

सोबन मार्डी ने बताया कि वह नक्सली वारदातों को अंजाम देते देते थक चुके थे। उसकी बहन भी बार-बार उसे मुख्य धारा से जुड़ने के लिए कह रही थी। इससे ुप्रेरित होकर वह मुख्य धारा से जुड़ने के लिए आगे आए हैं और कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया।

Posted By: Vikas Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस