जमशेदपुर (जागरण संवाददाता)। झारखंड का पहले ड्राई पोर्ट (इनलैंड कंटेनर डिपोर्ट-आइसीडी) का शनिवार शाम चार बजे से बर्मामाइंस में शुभारंभ हो रहा है। यहां से टाटा स्टील का पहला रैक हल्दिया के लिए रवाना होगा। केंद्र व राज्य सरकार की पहल पर इस ड्राई पोर्ट का शुभारंभ किया जा रहा है।

इस पोर्ट का संचालन भारत सरकार का उपक्रम कंटेनर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (कंकोर) करेगा। आदित्यपुर इंडस्ट्रीयल एरिया में कई ऐसी कंपनियां हैं जो माल का आयात व निर्यात करती हैं। ऐसे में उन्हें कोलकाता, हल्दिया या विशाखापट्टनम जाना पड़ता था। इससे समय और पैसे की बहुत बर्बादी होती थी। लेकिन बर्मामाइंस में ड्राई पोर्ट खुलने से अब उद्यमी यहीं से सीधे अपना माल किसी भी पोर्ट के लिए भेज पाएंगे। ड्राई पोर्ट में कस्टम के अधिकारी तैनात रहेंगे जो यहीं पर उद्यमियों के माल की बुकिंग करेंगे।

नवंबर में खुलना था ड्राई पोर्ट

बर्मामाइंस में तैयार ड्राई पोर्ट को नवंबर में ही खुलना था। लेकिन झारखंड में हुए विधानसभा चुनाव के कारण इसका उद्घाटन टाल दिया गया था। अब नई सरकार के गठन के बाद यह खुलने जा रहा है।

क्या है ड्राई पोर्ट

वैसे शहर जो समुद्र तट से जुड़े नहीं हैं, लेकिन वहां से भारी मात्रा में माल का आयात-निर्यात होता है। ऐसे शहरों में भारत सरकार का उपक्रम कंटेनर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (कंकोर) एजेंसी ड्राई पोर्ट का निर्माण करती है। यहां शिपिंग व कस्टम के अधिकारी तैनात रहते हैं जो उद्यमियों का माल रेलवे स्टेशन से सीधे पोर्ट तक पहुंचाती है।

ड्राई पोर्ट खुलने से स्थानीय उद्यमियों को काफी सहूलियत होगी। पोर्ट नहीं होने से माल कोलकाता भेजना पड़ता था जिसमें काफी परेशानी होती थी। इससे निर्यात को बढ़ावा मिलेगा और नए उद्यमी भी इस सेवा का लाभ मिल पाएगा। -संतोष खेतान, उपाध्यक्ष, आदित्यपुर स्मॉल इंडस्ट्री एसोसिएशन (एशिया)

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस