जमशेदपुर, जासं। झारखंड सरकार के पूर्व मंत्री व जमशेदपुर पूर्वी के निर्दलीय विधायक सरयू राय के बाद कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता, जमशेदपुर के पूर्व सांसद आईपीएस डा. अजय कुमार ने भी टाॅफी व टीशर्ट घोटाले का मामला उठाया है।  झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को लिखे पत्र में डा. अजय कुमार ने इसकी उच्च स्तरीय जांच कराने की मांग रखी है।

मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में डा. अजय ने कहा है कि झारखंड राज्य के स्थापना दिवस के मौके पर टॉफी-टीशर्ट की खरीद में घोटाले की बात सामने आ रही है। इसकी जल्द से जल्द जांच होनी चाहिए। डॉ अजय ने कहा कि पहले मैनहर्ट और अब फिर टॉफी, टी-शर्ट घोटाला, एक-एक कर विभिन्न मामलों की उचित जांच होनी चाहिए, ताकि रघुवर दास की सरकार में कोई घोटाला हुआ हो तो वह उजागर हो और जो दोषी है, उन पर कार्रवाई की जाए।

क्या है टाॅफी-टीशर्ट घोटाला

ज्ञात हो कि झारखंड स्थापना दिवस-2016 के दौरान स्कूली छात्र-छात्राओं के बीच टॉफी व टी-शर्ट का वितरण किया जाना था। लेकिन प्रदेश के 9000 स्कूलों में ये बंटे ही नहीं, पर कागज पर आपूर्ति दिखा दी गई। फाइलों में इसकी आपूर्ति और वितरण इतने कम समय में दिखाई गई है, जो संभव ही नहीं है। जिस कंपनी ने इसकी आपूर्ति की, उसने जीएसटी विभाग को भी धोखे में रखा। ट्रक के नंबर स्कूटर और बाइक के निकल रहे हैं।

डा. अजय कुमार ने मुख्यमंत्री को पत्र भी लिख इस घोटाले की किसी निष्पक्ष संस्था से जांच का आग्रह किया है।

अंडमान निकोबार के पर्यवेक्षक बने डा. अजय

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी ने राष्ट्रीय प्रवक्ता डा अजय कुमार को अंडमान निकोबार का पर्यवेक्षक बनाया है। उन्हें वहां कांग्रेस के राष्ट्रीय स्तर पर होने वाले आंदोलन और विरोध प्रदर्शन को लागू कराने की जिम्मेदारी दी गई है। यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू है।

Edited By: Rakesh Ranjan