जागरण संवाददाता, जमशेदपुर : कदमा पुलिस ने भाटिया बस्ती चौक कालीमंदिर के पास रहने वाले कुणाल गोराई के घर से देसी कट्टा बरामद किया। यह बरामदगी शास्त्रीनगर ब्लाक नंबर चार निवासी अपराधकर्मी आकाश सिंह उर्फ छोटू बच्चा की निशानदेही पर सीढ़ी के नीचे रखे बक्से से बरामद किया गया।

कदमा थाना प्रभारी जेके ठाकुर ने बताया कि शुक्रवार को छोटू बच्चा को पुलिस ने 24 घंटे की रिमांड पर लिया था। छोटू पिछले दिनों पुलिस की दबिश के कारण न्यायालय में आत्मसमर्पण कर दिया था। समर्पण से पूर्व उसने देसी कट्टे को कुणाल गोराई को 8500 रुपये में बेच दिया था। पूछताछ में छोटू ने बताया कि इससे पूर्व वह कई बार अपराध को अंजाम देने के बाद हथियार को कुणाल के घर में रखा था। कुणाल फरार है।

प्रभारी ने बताया कि बीते दिनों कुणाल के भाई रोबिन की उलियान गुरुद्वारा के पास शंकर गोराई और उसके पुत्रों के द्वारा पत्थर से कुचल कर हत्या कर दी थी।

----

रंगदारी मांगने में हथियार का कर चुका उपयोग

पूछताछ में बच्चा ने बताया कि जो हथियार बरामद हुआ है उसका उपयोग कदमा मेन रोड डीबीएमएस स्कूल के सामने स्थित न्यू मार्केट एरिया के दुकान संख्या पांच के मालिक संतोष कुमार से रंगदारी की मांग की गयी थी। इसके अलावा अन्य स्थानों से भी रंगदारी मांगने की बात बताई। रिमांड की अवधि खत्म होते ही पुलिस ने छोटू को वापस भेज दिया।

रंगदारी में मीट, सिगरेट, शराब और रुपये की वसूली को बना लिया धंधा

कदमा के दुकानदार संतोष कुमार को पिस्तौल का भय दिखाकर रंगदारी मांगने के आरोपित व पुलिस रिमांड पर लिए गए आकाश सिंह उर्फ छोटू बच्चा ने पुलिस को बताया कि वह अपना गिरोह तैयार कर लिया था। उसके गिरोह में प्रशांत नंदी, प्रकाश दीप, गोपाल घोष, आकाश भगत, शोएब अख्तर उर्फ शिबू, सूरज उर्फ पकौड़ा, अरसद उर्फ मर्दाना, कुणाल गोराई को शामिल हैं।

इसके गिरोह के सदस्यों द्वारा मिलकर छोटे-छोटे दुकानदारों से रंगदारी मांगना पेशा बना लिया था। रंगदारी के पैसे से ब्रांडेड कपड़े व मोटरसाइकिल खरीदा। इसके बाद वह अपने दोस्तों के साथ प्रतिदिन गांजा व नशा का टैबलेट का सेवन करने लगा था। मई 2018 में मधु पान दुकान से 10 हजार रुपये, पारस मीट दुकान से 8 हजार रुपये व पांच किलो मीट, शास्त्रीनगर ब्लाक नंबर दो की मीट दुकान से पांच किलो मीट व डीबीएमएस स्कूल के पास संतोष साहू के दुकान से 20 हजार रुपये रंगदारी के रूप में छीन लिया था।

कहा, पैसा हो जाने के बाद मैंने संपर्क बढ़ाकर मुंगेर से 10800 रुपये में एक पिस्तौल और एक दर्जन गोली खरीदा। उसके बाद अपने गैंग के सहयोग से जुस्को स्कूल के पास स्थित बाजार से दिनांक 29 अक्टूबर को संतोष साहू को रिवाल्वर का भय दिखाकर 20 हजार रुपये व आठ पैकेट सिगरेट लिया। इसके दूसरे दिन उसके सामने वाला दुकानदार काजू व बिरजू से 15 हजार रुपये रंगदारी के रूप में लिया तथा अपने गैंग के सेकेंड मैन कुणाल गोराई और भाटिया बस्ती निवासी सूरज उर्फ पकौड़ा को एक पार्टी करने के लिए शराब में मिलाने के लिए 20 बोतल सोडा व दस बोतल पेप्सी का बड़ा बोतल छीन लिया।

छोटू बच्चा ने पुलिस को बताया कि रंकिणी मंदिर, कदमा बाजार, भाटिया पार्क, शास्त्रीनगर, डीबीएमएस स्कूल के आसपास कुणाल गोराई के साथ मिलकर मोटरसाइकिल से सुबह छह से आठ बजे के बीच आठ से दस महिलाओं के गले से चेन की छिनतई की। चेन बेचने का काम कुणाल गोराई को सौंपा था। वह चेन बिक्री कर मुझे मेरा हिस्सा दे देता था। मैं अपराध करने के बाद पुलिस के डर से अपना पिस्तौल व गोली कुणाल को रखने के लिए दे देता था।

भुजाली से किया था वार

पुलिस को छोटू बच्चा ने बताया कि छह जून 2018 को गोपाल घोष, प्रकाश दीप, शक्ति महतो, तारकेश्वर, प्रशांत नंदी उर्फ कोरना, आकाश भगत के साथ मिलकर गोलू सरदार नामक एक लड़का जो रामजनम नगर में रहता है को रंगदारी नहीं देने के कारण भाटिया पार्क में भुजाली से पेट फाड़ दिया था। इसके अलावा मैंने दूसरी बड़ी घटना 29 अक्टूबर 2018 को पिस्तौल का भय दिखाकर 20 हजार रुपये व सिगरेट छीना था।

Posted By: Jagran