जमशेदपुर (जागरण संवाददाता)। देश की राजधानी दिल्ली के निजामुद्दीन के तबलीगी जमात में शामिल होने जमशेदपुर से दो लोग गए थे। ये दोनों आजादनगर के रहने वाले है। जिला स्वास्थ्य विभाग ने दोनों का नमूना लेकर जांच के लिए महात्मा गांधी मेमोरियल (एमजीएम) मेडिकल कॉलेज के वायरोलॉजी लैब में जांच के लिए भेजा है।

वहीं दोनों संदिग्ध मरीजों को आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। मंगलवार को जमात में शामिल होने वाले कई लोगों में कोरोना वायरस की पुष्टि होने के बाद हड़कंप मच गया। मुसाबनी से भी चार लोग गए थे। इन सभी को मुसाबनी के राखा माइंस क्षेत्र के पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में बने क्वारंटाइन में रखा गया है।

इनमें 37 वर्षीय एक व्यक्ति दो मार्च को दिल्ली से लौटकर मझगांव, चाईबासा होते हुए 28 मार्च को बदिया बनगोड़ा टोला पहुंचा था। वहीं 52 वर्षीय एक व्यक्ति कटक से चार मार्च को जमशेदपुर के मानगो स्थित आजाद बस्ती में जबिक पांच मार्च को मझगांव में था। जमात में शामिल होने के लिए पूरे झारखंड से 41 लोग गए थे।

मुसाबानी से 16 व जमशेदपुर से छह संदिग्ध मरीजों का लिया गया नमूना

जिले में कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीजों की संख्या लगातार बढऩे से हड़कंप मचा हुआ है। मंगलवार को मुसाबनी के राखा माइंस क्षेत्र के पुलिस ट्रेनिंग सेंटर में बने क्वारंटाइन से कुल 16 संदिग्ध मरीजों का नमूना संग्रह किया गया। इसमें चार वे भी शामिल है जो कुछ दिन पूर्व नेशनल हाइवे-33 स्थित तमाड़ के रडग़ांव से लाए गए थे।

वहीं तीन वैसे लोग भी है जिनका चाइना से कनेक्शन रहा है। साथ ही एक संदिग्ध डॉक्टर का भी नमूना लेकर जांच के लिए भेजा गया है। वहीं छह नमूना महात्मा गांधी मेमोरियल (एमजीएम) मेडिकल कॉलेज अस्पताल से लिया गया है। ये जमशेदपुर के विभिन्न क्षेत्रों के रहने वाले है। जिले में अभी तक कुल 135 संदिग्ध मरीज मिल चुके है।

Posted By: Vikas Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस