घाटशिला/मुसाबनी (जेएनएन)। कोरोना वायरस के कहर को लेकर मचे हड़कंप के बीच पूर्वी सिंहभूम जिले के घाटशिला अनुमंडल क्षेत्र मुसाबनी-जादूगोड़ा क्षेत्र में उस समय हड़कंप मच गया जब लोगों को कुछ विदेशी नागरिकों के मुसाबनी में होने की जानकारी मिली। इलाके के लोग दहशत में आ गए।

तमाड़ के मस्जिद से पकड़कर लाए गए, राखामाइंस आइसोलेशन वार्ड में रखा गया 

दरअसल, मंगलवार को मुसाबनी जादूगोरा क्षेत्र में 11 विदेशी नागरिकों को तमाड़ रड़गांव के एक मस्जिद से पकड़ने के बाद चार पांच इनोवा गाड़ी से जमशेदपुर के रास्ते मुसाबनी लाया गया। मुसाबनी थाना पहुंचने पर इन सभी को राखा माइंस स्थित स्वासपुर ट्रेनिंग सेंटर में बनाए गए आइसोलेशन वार्ड में भेज दिया गया। मुसाबनी बीडीओ अजय कुमार रजक एवं अन्य अधिकारी आइसोलेशन वार्ड पहुंचकर इन सभी 11 विदेशी नागरिकों को ठहराने की व्यवस्था करने में जुटे हैं। 

बीडीओ ने बताया कि यहां पहुंचे विदेशी नागरिकों में चीन के 4 एवं तुर्किस्‍तान के 7 सहित कुल 11 लोग हैं। ये सभी बीते डेढ़ महीने से तमाड़ में ढहरे हुए थे। इन विदेशी नागरिकों से और भी जानकारियां लेने की कोशिश जारी है। इन सभी 11 विदेशी नागरिकों से हीं यहाँ बनाये गए आइसोलेशन वार्ड की शुरुआत हुई है। इन नागरिकों के इस इलाके में रहने को क्षेत्र के लोग खतरे की घंटी मान रहे हैं। लोगों में इसको लेकर भारी आक्रोश और भय का माहौल है। पुलिस ट्रेनिंग कैंप में बनाए गए आइसोलेशन वार्ड में रखे जाने से आम लोगों में दहशत है। लोगों में तरह-तरह की चर्चा हो रही है।

वे सवाल कर रहे हैं कि इन लोगों को यहां रांची से लाकर क्यों रखा गया है जबकि रांची और जमशेदपुर में इससे अच्छी जांच और मेडिकल की सुविधा है। यहां नाममात्र के चार डॉक्टर व 10 मजिस्‍ट्रेट को ड्यूटी पर लगाया गया है। यहां कोई खास सुविधा भी उपलब्‍ध नहीं है। 

भारत आने के मकसद को लेकर हो रही चर्चा

विदेशों से लोग भारत में किस मकसद से आए हैं इसको लेकर तरह-तरह की चर्चा है स्थानीय लोगों ने विदेशी नागरिकों को इस क्षेत्र में रखे जाने का विरोध शुरू कर दिया है। उनका कहना है कि विदेशी नागरिकों से संक्रमण एवं सुरक्षा की खतरा बढ़ गया है। हालांकि प्रशासनिक अधिकारी लोगों को समझाने का प्रयास कर रहे हैं। 

महाराष्‍ट्र से आए दो मजदूरों की स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की टीम ने की जांच

कोरोना वायरस से संक्रमण की आशंका के मद्देनजर महाराष्ट्र से आये चेंगजोड़ा गांव के दो मजदूर को प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग की टीम ने जांच की। सोमनाथ हांसदा एवं अजय हेम्ब्रम नामक दो युवक दो दिन पहले महाराष्ट्र से चेंगजोड़ा गांव पहुंचे थे।

सूचना मिलते ही प्रशासनिक पदाधिकारी एवं स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव पहुंच गई। दोनों युवक के स्वास्थ्य की जांच कर आवश्यक जानकारी ली गयी। दोनों युवक को दो सप्ताह तक घर मे ही ऐहतियातन रहने की हिदायत दी गई है। उल्लेखनीय है कि महाराष्ट्र में कोरोना वायरस से सर्वाधिक लोग संक्रमित है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस