चाईबासा, जासं। जंगली भालू ने सबसे पहले धोबी तालाब की रहने वाली 45 वर्ष की महिला मीना देवी को अपना शिकार बनाया। वह अपनी बूढ़ी मां अमीना खातून के साथ मुहर्रम का कर्बला जुलूस देखने के लिए रात्रि करीब डेढ़ बजे अपने घर से निकल रही थी। उसी समय भालू ने उन पर हमला कर दिया। उनकी पीठ समेत अन्य हिस्सों पर पंजा मार कर जख्मी कर दिया। इसके बाद उनके साथ चल रही उसकी बूढ़ी मां अमीना खातून पर हमला कर दिया। उन्हें भी नोंच कर घायल कर दिया। यहां हो हल्ला होने पर भालू गांधी टोला की ओर भाग निकला।

कई लोगों को किया घायल

इसके बाद अहले सुबह करीब 5 बजे शौच को जा रही गांधी टोला की रहने वाली 50 वर्षीय महिला कुंती देवी पर हमला बोल दिया। उनके दाहिने हाथ को नोंच कर बुरी तरह से क्षतिग्रस्त कर दिया। इसके बाद 70 वर्षीय अनादि लाल साहू को निशाना बनाया। उसे भी नोच कर लहूलुहान कर दिया। वह भी सुबह-सुबह काम के लिए अपने घर से निकले थे। चार लोगों को घायल करने के बाद भालू गांधी टोला में संदीप साव के प्लाट में घुस गया। वन विभाग ने वहां वनपालों को तैनात कर दिया गया है। उस रास्ते से होकर लोगों को आना जाना करने से मना कर दिया गया। वन विभाग के लोग भालू को पकड़ने में दिनभर डटे रहे। शहर के अंदर भालू घुसने की सूचना आग की तरह पूरे शहर में फैल गई। आसपास के लोगों में भय का माहौल बना हुआ है। वहीं कई लोग जंगली भालू को देखने के लिए गांधी टोला पहुंच रहे थे।

Edited By: Madhukar Kumar