जमशेदपुर, अमित तिवारी।  करोड़ों रुपये की लागत से खरीदी गई कार्डियक एंबुलेंस देखरेख नहीं होने की वजह से महात्मा गांधी मेमोरियल (एमजीएम) मेडिकल कॉलेज अस्पताल में जंग खा रही है। अब देश के उप राष्ट्रपति वैैंकेया नायडू के लिए उधारी पर निजी अस्पताल से मांगी गई है।

दरअसल, 17 फरवरी को उप राष्ट्रपति वैैंकेया नायडू टाटा स्टील के एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए जमशेदपुर आ रहे हैं। उसकी तैयारी में जिला प्रशासन रेस है। एमजीएम अस्पताल की ओर से मेडिकल टीम गठित की गई है। इसमें मेडिसीन विभागाध्यक्ष डॉ. पी. सरकार, सर्जरी विभागाध्यक्ष डॉ. दिवाकर हांसदा व एनेस्थेसिया विभाग के डॉ. अजय प्रसाद शामिल हैं। वहीं, ब्रह्मानंद अस्पताल से कार्डियक एंबुलेंस की मांग की गई है। जबकि, एमजीएम अस्पताल में वर्ष 2011 से अत्याधुनिक कार्डियक एंबुलेंस पड़ी हुई है।

कीमत थी एक करोड़ से अधिक

नेशनल गेम के दौरान यह कार्डियक एंबुलेंस खरीदी गई थी। उस समय कीमत एक करोड़ से अधिक था। अत्याधिक सुविधाओं की वजह से इस एंबुलेंस को चलता फिरता ऑपरेशन थियेटर (ओटी) भी कहा जाता है। इसमें कार्डियक मशीन, तीन तरह के स्कोप स्ट्रेचर, हैैंड ऑक्सीजन, पंप ऑक्सीजन, मॉनिटर, दो ऑक्सीजन सिलेंडर, बेसिन सहित तमाम उपकरण शामिल हैं। उपराष्ट्रपति जमशेदपुर शहर के शताब्दी वर्ष के उपलक्ष्य पर एक डाक टिकट का विमोचन करेंगे। वहीं, एक कॉफी टेबल बुक का भी विमोचन करेंगे। कार्यक्रम डेढ़ घंटे का होगा।

प्रधानमंत्री के लिए भी मांगी जा चुकी है एंबुलेंस

शहर में जब भी कोई वीआइपी आता है तो जिला स्वास्थ्य विभाग को निजी अस्पतालों के आगे हाथ फैलाना पड़ता है। सरकारी अस्पतालों में न तो बेहतर इलाज की सुविधा है न ही एंबुलेंस की। जबकि, लाखों की कई मंहगी मशीनें धूल फांक रही हैं। इसका संचालन करने वाला कोई नहीं है। पूरा सिस्टम ध्वस्त है। सिर्फ मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (एमसीआइ) को दिखाने के लिए खरीदी जाती है। कुछ माह पूर्व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शहर आए थे तो निजी अस्पतालों से कार्डियक एंबुलेंस की मांगी गई थी। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021