जगन्नाथपुर, जासं। पश्चिमी सिंहभूम के जगन्नाथपुर थाना क्षेत्र के गोबरगांव और राजाबासा गांव के ग्रामीणों के बीच बिजली का पोल लगाने, तार खींचने ओर ट्रांसफार्मर लगाने को लेकर आपस में झड़प हो गई। इस दौरान हुए संघर्ष में दोनों ही गांव के दर्जन भर से ज्यादा लोग घायल हो गए हैं। इनमें से कई लोगों को आंशिक चोटे आयी हैं। जबकि तीन घायलों को जगन्नाथपुर सामुदायिक स्वास्थ्य से बेहतर उपचार के लिए सदर अस्पताल चाइबासा रेफर कर दिया गया है।

रेफर होने वाले मरीजों में राजाबासा गांव निवासी राशन डीलर सह वार्ड सदस्य गुरुचरण सोय, सनमति जोजो व आशा कुंकल शामिल हैं। गोबरगांव के भी चार लोगों को गम्भीर चोट लगी है जिनका नाम तपन, केशव, कुशरंजन व अमित है। इनका उपचार जैंतगढ़ प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में चल रहा है। घटना मंगलवार दोपहर करीब एक बजे की है। लोगों ने एक दूसरे पर लाठी, डंडा, पत्थर से हमला किया। हाथ-पैर से धक्का मुक्की भी की।

गोबार गांव के लोगों ने रखी अपनी बात

बताया जा रहा है कि गोबर गांव में जिस जगह ट्रांसफार्मर लगा है, वहां से जुड़ा 11 हजार केवी का बिजली तार खेत व तालाब के ऊपर से गुजरता है। आंधी-पानी आने पर यह तार टूटकर खेत व तालाब में गिर जाता है। इससे अक्सर दुर्घटना की आशंका बनी रहती है। बिजली के तार की चपेट में आने से कुछ लोगों के गाय-बैल भी मर चुके हैं। इस समस्या को लेकर गोबरगांव के ग्रामीणों ने निर्णय लिया कि गांव का ट्रांसफार्मर पास के गांव राजाबासा में लगाया जाये ताकी कभी भी कोई अनहोनी घटना न हो। गोबरगांव के ग्रामीणों ने राजाबासा गांव के ग्रामीणों से इस संबंध में बात की तो राजाबासा के लोग मान गये। इसके बाद 9 मई को फिर गोबरगांव में एक बैठक हुई। इस बैठक में राजाबासा गांव में जिनकी जमीन के आसपास राजाबासा गांव का पहले से ट्रांसफार्मर लगा था आदि शामिल हुए। बैठक में सहमती बनी कि राजाबासा गांव का ट्रांसफार्मर के समीप गोबरगांव गांव का ट्रांसफार्मर भी लगाया जायेगा। इसके आलोक में मंगलवार को गोबरगांव के ग्रामीण राजाबासा में ट्रांसफार्मर लगाने के काम में जुट गये। किन्तु अचानक दोपहर करीब एक बजे राजाबासा और गोबरगांव के ग्रामीणों के बीच बिजली का खम्बा अन्यत्र लगाने तथा तार दूसरे छोर से खींचने की बात को लेकर बहस शुरू हो गई। फिर बात बिगड़ी और दोनों गांव के ग्रामीण के बीच आपस में झड़प होने लगी।

राजाबासा के ग्रामीणों का यह है कहना

राजाबासा गांव के ग्रामीणों ने बताया कि हमें गोबरगांव का ट्रांसफार्मर अपने गांव में लगाने पर किसी तरह की कोई आपत्ति नहीं है। दरअसल, हमारे गांव में तीन दिन से लाइन नहीं थी। आज किसी तरह लाइन आयी थी किन्तु हमारे गांव के लाइन को काट कर ट्रांसफार्मर लगाने का काम चल रहा था। यह देख हम लोगों ने कहा कि जब ट्रांसफार्मर बैठाने का काम होगा तब हमारे गांव की बिजली थोड़ी देर काट दिजिए। अभी बिजली चालू रहने दी जाये। वहीं गोबरगांव का ट्रांसफार्मर हमारे गांव के ट्रांसफार्मर से थोड़ा हट कर अलग से लगाने, बिजली का खम्बा गाड़ कर तार दूसरे छोर से खींच लेने की सलाह गोबरगांव के ग्रामीणों को दी गई थी। इसी के बाद दोनों गांव में विवाद उत्पन्न हो गया और नौबत मारपीट तक आ गई।

पुलिस ने शुरू की जांच, दोनों पक्ष का लिया गया बयान

इधर, घटना की सूचना जैसी ही जगन्नाथपुर पुलिस को मिली सब इंस्पेक्टर जॉनी कुमार दलबल के साथ पहुंचे और घायलों को जैंतगढ़ व जगन्नाथपुर स्वास्थ्य केंद्र उपचार के लिए लाया। वहां जगन्नाथपुर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी इकुर डुंगडुंग और नोवामुण्डी पुलिस इंस्पेक्टर, थाना प्रमारी देवसाय भगत आदि पदाधिकारी भी पहुंचे। दोनों ही गांव के घायल ग्रामीण व अन्य के साथ-साथ सब इंस्पेक्टर जॉनी कुमार सहित अन्य पदाधिकारियों से घटना के संबंध में जानकारी ली। देर शाम तक दोनों पक्ष के तरह से प्राथमिकी दर्ज कराने की प्रक्रिया चल रही थी।

घायलों की सूची 

घायलों में राजाबासा गांव के सनमति जोजो, जपान पुरती, आशा कुंकल घायल , सोमवारी कुंकल, तुलसी सोय, अनीता गागराई, सुखलाल पुरती सहित अन्य शामिल है। वहीं, गोबरगांव से जितेंद्र प्रधान, अमित प्रधान, सरोज महाराणा, तपन प्रधान, केशव प्रधान, कुशरंजन प्रधान, अक्षय प्रधान, शशिभूषण प्रधान, बिजय प्रधान, केशव प्रधान, सुरज महाराणा सहित अन्य शामिल है।

Edited By: Rakesh Ranjan