जागरण संवाददाता, जमशेदपुर : टाटा मोटर्स अस्पताल में डॉक्टरों से उलझने वाले तीन यू्नियन नेताओं को प्रबंधन ने निलंबित कर दिया है। मंगलवार को ये यूनियन नेता कंपनी में ड्यूटी के दौरान घायल हुए बाइसिक्स कर्मचारी को अनफिट घोषित करने को लेकर भिड़ गए थे। टाटा मोटर्स अस्पताल में ड्यूटी पर तैनात चिकित्सक के साथ कहा-सुनी हुई थी।

बात धक्का-मुक्की तक पहुंच गई थी। इसके मद्देनजर टीएमएल-ड्राइवलाइन वर्कर्स यूनियन के तीन पदाधिकारियों को कंपनी प्रबंधन ने चार्जशीट देते हुए निलंबित कर दिया है। निलंबित किए गए यूनियन नेताओं में अशोक उपाध्याय, पप्पू सिंह और बीके शर्मा शामिल हैं। तीनों को कंपनी ने अगले 72 घटे के अंदर जवाब देने को कहा है। बताया जाता है कि मंगलवार को बाइसिक्स कर्मी को चोट लगने के बाद टाटा मोटर्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां डॉक्टरों के साथ घायल बाइसिक्स कर्मी को अनफिट घोषित करने को लेकर यूनियन नेताओं की बहस हो गई।

नेताओं का कहना था कि जब यह कर्मचारी काम करने योग्य नहीं है, तो इसे फिट क्यों किया गया। नेताओं का तर्क था कि अब यदि यह कर्मचारी काम पर गया तो इसके साथ बड़ी दुर्घटना हो सकती है। डॉक्टरों ने नेताओं की कोई दलील नहीं सुनी और अपनी बात पर अड़े रहे। इसका यूनियन के नेताओं ने विरोध किया था और इसी विरोध के दौरान डॉक्टरों के साथ यूनियन नेताओं की बहस हो गई। इस मामले को प्रबंधन ने गंभीरता से लिया और विरोध करने वाले तीन नेताओं पर कार्रवाई कर दी। अब इस घटना के बाद टीएमएल- ड्राइवलाइंस वर्कर्स यूनियन के इन नेताओं के खिलाफ प्रबंधन की कार्रवाई से बाइसिक्स कर्मियों में आक्रोश है। वैसे इस मामले पर अब कोई भी खुलकर बोलना नहीं चाहता।