जमशेदपुर (जागरण संवाददाता)। भारतीय जन मोर्चा के की ओर से गुरुवार को आपातकाल (इमरजेंसी) को लेकर विरोध जताते हुए प्रतिकार दिवस मनाया गया।

भारतीय जन मोर्चा के कोल्हान प्रभारी संजीव आचार्य व जिला संयोजक रामनारायण शर्मा के संयुक्त नेतृत्व में साकची, शहीद चौक पर तत्‍कालन कांग्रेस की सरकार द्वारा देश में लगायी गई इमरजेंसी के विरोध में इस प्रतिकार दिवस का आयोजन किया गया। 

जेपी आंदोलन में भूमिका निभानेवाले सरयू राय भी हुए शामिल

प्रतिकार दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में जेपी आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभाने वाले नेता तथा जमशेदपुर पूर्वी के विधायक सरयू राय शामिल हुए। उन्होंने कहा कि 1974 में महगाई सहित जनहित के विभिन्न मुद्दों को लेकर छात्रों का एक आंदोलन जय प्रकाश नारायण के नेतृत्व में शुरू हुआ। उस समय के प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की चुनाव निरस्त होने और आंदोलन से घबराकर 25 जून, 1975 को पूरे देश में लोकतंत्र का गला घोटते हुए आपातकाल लगया गया। आपातकाल के समय देश के विपक्ष के सभी बड़े नेता जिसमें लोकनायक जय प्रकाश नारायण, अठल बिहारी वाजपेयी, लालकृष्णा अडवाणी, मुरली मनोहर जोशी समेत हजारों आंदोलनकारी वे नेताओं को जेल में डाल दिये गया। 

जनता ने चुनाव में दिया था जवाब

सरयू राय न कहा कि 1977 में जब आपातकाल के बाद चुनाव हुआ तो लोकतंत्र स्वयं इंदिरा गांधी भी चुनाव हार गयी। इसका आक्रोश जनता में इतना ज्यादा था की उन्होंने अपनी जान की बाजी लगाकर इंदिरा गांधी की निरंकुश शासन को उखाड़ फेंका एवं लोकतंत्र की बहाली करवाई। उन्होंने कहा कि व्यबस्था परिवर्तन की बाते चलती रहेगी, जब जब शासन दमनकारी रुख अपनायेगा। देश में कोई भी अगर लोकतंत्र का गला घोटने का प्रयास करेगा तो वो सफल नहीं होगा।

इस आक्रोश मार्च में पूर्वी विधानसभा संजोजक अजय सिन्हा, भास्कर मुखी, कुलविंदर सिंह पन्नु, सुधीर सिंह, सुबोध श्रीवास्वत, चंन्द्रशेखर राव, धनजी पाण्डेय विजय नारायण सिंह, अमूल्यो कर्मकार, हरेराम सिंह, राघवेन्द्र प्रताप सिंह, राजीव चैहान, काशीनाथ प्रधान, पूनीत श्रीवास्तव, जोगिन्द्र सिंह जोगी, वंदना नामता, पूतुल सिंह, काकुली मुखर्जी, मिष्टु सोना, शमशाद खान सहित सैकड़ों भाजमो कार्यकर्ता उपस्थित थे।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस