मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जमशेदपुर, अमित तिवारी। Ayushman bharat yojana किसान, मजदूर, गरीब सबकी जिंदगी में आयुष्मान भारत योजना खुशहाली ला रही है। छाेटी-मोटी बीमारी को कौन कहे, असाध्य रोगों का मुफ्त इलाज कराकर लोग हंसी-खुशी घर लौट रहे हैं और आयुष्मान को शुक्रिया कह रहे। अब इन दो मामलों को ही लें।

झारखंड के सरायकेला-खरसावां जिले के नीमडीह प्रखंड के सिरूम गांव निवासी दिनेश महतो (40) किसान हैं। खेत में काम करने के दौरान उनके सिर में तेज दर्द होने लगा। उन्होंने ब्रह्मनंद अस्पताल के डॉक्टर को दिखाया। जांच में ब्रेन ट्यूमर की पुष्टि हुई और अब ऑपरेशन के लिए भर्ती है। दिनेश महतो कहते हैं वे अस्पताल आसानी से इसलिए पहुंच गए कि उनके पास गोल्डन कार्ड था। अगर, यह सुविधा नहीं होती तो शायद ही वह अपना इलाज करा भी पाते। दिनेश कहते हैं कि गोल्डन कार्ड मिलने से कम से कम इलाज की चिंता तो दूर हो गई है।

ये है गम्हरिया के सुजीत की कहानी

 

 गम्हरिया स्थित सुजीत कुमार इंद्रो (77) भी ब्रेन ट्यूमर से ग्रस्त हैं। उनका इलाज भी ब्रह्मनंद अस्पताल में चल रहा है। डॉक्टरों ने सर्जरी की जरूरत बतायी है लेकिन वे आर्थिक रूप से काफी कमजोर हैं। ऐसे में उनका भी गोल्डन कार्ड ही सहारा बना है। परिजनों का कहना है कि उनका नाम भी आयुष्मान योजना में दर्ज है। सर्जरी के बाद दोनों का ट्यूमर जांच के लिए भेजा जाएगा। ताकि पता चल सके कि कहीं कैंसर को नहीं है। 

क्यों होता है ट्यूमर

ब्रेन ट्यूमर तब विकसित होता है जब सामान्य कोशिकाओं के डीएनए में गड़बड़ी हो जाती है। म्यूटेशन के कारण कोशिकाएं तेजी से विकसित और विभाजित होती हैं। इसके विकास के कारण आसपास की जीवित कोशिकाएं मरने लगती हैं। इसका परिणाम यह होता है कि असामान्य कोशिकाओं का एक पिंड बन जाता है, जो ट्यूमर का निर्माण करता है। ब्रेन ट्यूमर मुख्यत दो प्रकार के होते हैं। कैंसर रहित और कैंसर युक्त। कैंसरयुक्त ट्यूमर को भी उसके विकसित होने के तरीके के आधार पर दो श्रेणियों में बांटा जाता है।

ये कहते डॉक्टर

ब्रेन ट्यूमर एक गंभीर बीमारी है। इसके प्रति लोगों को जागरूक होने की जरूरी है। इसके लक्षण अगर समझ में आए तो तत्काल इसकी जांच करानी चाहिए। इसका इलाज सर्जरी से संभव है। ब्रेन ट्यूमर कैंसर भी हो सकता है।

- डॉ. राजीव महर्षि, न्यूरो सर्जन।

ब्रेन ट्यूमर के कारणों के बारे में स्पष्ट रूप से कुछ पता नहीं है लेकिन कुछ रिस्क फैक्टर्स हैं, जो इसका खतरा बढ़ा देते हैं। इसमें रेडिएशन भी शामिल है। रेडियेशन थिरेपी व बढऩे उम्र में ब्रेन ट्यूमर होने की संभावना अधिक रहती है। 

- डॉ. राकेश कौशिक, न्यूरो सर्जन।

ब्रह्रमानंद अस्पताल में भर्ती ब्रेन ट्रयूमर के मरीज सुजीत कुमार इंद्रो।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rakesh Ranjan

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप