जमशेदपुर (जासं) । टाटा कमिंस कर्मचारी यूनियन के पूर्व महासचिव और स्टीयरिंग कमेटी के सदस्य अरुण कुमार सिंह की बर्खास्तगी के मामले में उप श्रमायुक्त राजेश प्रसाद ने बुधवार को बड़ी कार्रवाई की है। डीएलसी ने कंपनी के चेयरमैन, प्रबंध निदेशक, प्लांट हेड समेत शीर्ष 11 अधिकारियों को शो कॉज नोटिस जारी किया है और 11 अगस्त तक जवाब तलब करने को कहा है। शोकॉज नोटिस में औद्योगिक विवाद अधिनियम १९४७ के तहत उल्लेखित अनुचित श्रम व्यवहार करने और वर्क स्टैंडिंग आर्डर के विरुद्ध जाकर अरुण कुमार सिंह को नौकरी से बर्खास्त करने की बात कही गई है।

 इन लोगों को भेजा गया है नोटिस : चेयरमैन गुंटर बुशेक, प्रबंध निदेशक अश्वथ राम, एसोसिएट निदेशक अंजली पांडेय और राजीव बत्रा, निदेशक गिरीश बाग, राजेंद्र पेटकर, असीम मुखोपाध्याय और जोनाथन व्हाइट, एचआर हेड पल्लवी देसाई, प्लांट हेड मनीष कुमार झा, सीनियर जेनरल मैनेजर दीप्ति माहेश्वरी।नोटिस महाराष्ट्र के पुणे स्थित कंपनी के मुख्यालय के पते पर भेजा गया है। साथ ही सभी को मेल पर भी नोटिस भेजा गया है। नोटिस में मारपीट की घटना का जिक्र भी किया गया है।

 यह है मामला: यूनियन के चार नेताओं के बीच मारपीट हुई थी। मामले में चार आरोपी थे। बताया जाता है कि जिन लोगों ने मारपीट की शुरुआत की उन लोगों को प्रबंधन ने दो दिन और पांच दिन का निलंबन की सजा देकर माफ कर दिया जबकि मारपीट में बीच बचाव करने गये अरुण कुमार सिंह को नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया। इसलिए प्रबंधन की कार्रवाई पर सवाल उठाये जा रहे हैं। प्रबंधन ने वर्क स्टैंडिंग आर्डर के एक आरोप और कमिंस कोड ऑफ कंडक्ट से जांच में बरी किया है। डीएलसी ने इसी बिंदू को आधार बनाकर नोटिस जारी किया है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप