जागरण संवाददाता, जमशेदपुर : दक्षिण पूर्व रेलवे में महाप्रबंधक का पद पिछले कई माह से खाली था। यहां पर निर्वतमान महाप्रबंधक विद्या भूषण रेलवे कोस्ट सहित दक्षिण पूर्व रेलवे में अतिरिक्त प्रभार पर थे। लेकिन रेलवे बोर्ड ने दक्षिण पूर्व रेलवे की जिम्मेदारी पहली बार एक महिला अधिकारी को दिया है। ये हैं भारतीय रेल यातायात सेवा (आईआरटीएस) में 1985 बैच की अधिकारी अर्चना जोशी। जिन्होंने 30 जुलाई को दक्षिण पूर्व रेलवे में नए महाप्रबंधक के रूप में पदभार ग्रहण किया। इससे पहले अर्चना रेलवे बोर्ड में पर्यटन एवं खानपान विभाग की अतिरिक्त सदस्य के पद पर कार्यरत थी। अर्चना जोशी आईआरटीएस अधिकारी के रूप में पहली महिला महाप्रबंधक भी हैं।

आपको बता दें कि अर्चना जोशी ने पंजाब विश्वविद्यालय से अपनी पढ़ाई पूरी की है। चढ़ीगढ़ की इस पूर्व छात्रा ने समाजशास्त्र में स्नातकोत्तर करते हुए गोल्ड मेडल भी जीता है। इसके अलावा इन्होंने सार्वजनिक नीति और प्रशासन विषय में एम फिल भी पूरा किया है। पढ़ाई पूरी करने के बाद अर्चना जोशी ने देश के विभिन्न रेलवे जोन में काम किया है। उन्होंने उत्तर रेलवे, उत्तर पश्चिम रेलवे, पश्चिम मध्य रेलवे और उत्तर पूर्व रेलवे में अतिरिक्त महाप्रबंधक, मुख्य वाणिज्यिक प्रबंधक, मुख्य परिचालन प्रबंधक, वरिष्ठ उप महाप्रबंधक सहित विभिन्न पदों पर काम किया है। इसके अलावा इन्होंने कोटा और पश्चिम मध्य रेलवे में मंडल रेल प्रबंधक के रूप में भी काम किया है।

इसके अलावा अर्चना जोशी को अंतराष्ट्रीय सहयोग के विभिन्न मुद्दों से निपटने के अलावा संस्कृति मंत्रालय और वन मंत्रालय में भी काम करने का गौरव प्राप्त है। भारतीय रेलवे में रेल परिवहन में अर्चना का उल्लेखनीय योगदान रहा है। भारतीय रेल की विविधता और उसके विशाल रेल खंड के विष पर अर्चना ने संयुक्त राज्य अमेरिका और यूरोप के कई अंतरराष्ट्रीय विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले छात्रों को प्रशिक्षित किया है। इसके लिए इन्होंने कई यात्राएं भी की हैं। इसके अलावा अर्चना जोशी को खेल और सामाजिक सांस्कृतिक गतिविधियों में गहरी दिलचस्पी है।

Edited By: Rakesh Ranjan