चांडिल, जेएनएन। जमशेपुर से कोई 40 किलोमीटर दूर सरायकेला-खरसावां जिले के तिरुलडीह थाना क्षेत्र के लेटेमदा गांव के नुतनडीह टोला में आंगनबाड़ी सेविका की धारदार हथियार से वार कर हत्या कर दी गई। हत्या का शक ससुरालियों पर ही है। वैसे पुलिस मामले की छानबीन में जुटी है।

मृतका संतोषी महतो लेटेमदा गांव की आंगनबाड़ी सहायिका थी। उसका मायका चांडिल थाना क्षेत्र के घोड़ानेगी गांव में है। वह अपने घर में अकेले रहती थी। संतोषी के पति हीरालाल महतो ने कोई दो वर्ष पूर्व दूसरी शादी कर ली थी। इसके बाद संतोषी ने पति हीरालाल महतो पर केस किया था और वह जेल में है। संतोषी महतो की एक छह वर्ष की बेटी है जो चांडिल में हॉस्टल में रहकर पढ़ाई करती है। पड़ोसियों का आशंका है कि संतोषी महतो की हत्या दो दिन पूर्व मंगलवार को ही की गई होगी क्योंकि संतोषी महतो को दो दिनों से किसी ने घर के बाहर नहीं देखा था।

तीन दिन पूर्व गई थी मायके

संतोषी महतो के मायके के लोगों का कहना है कि तीन दिन पूर्व वह मायके गई थी और अपनी बेटी से मिली थी। संतोषी के चाचा का मानना है कि ससुराल वालों ने साजिश के तहत उसकी हत्या कर दी है। हत्‍या में दर्जनों लोगों का हाथ है। पुलिस को घटना की सूचना गुरुवार को मिली। सुचना पाकर तिरुलडीह थाना की पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और शव को पंचनामा के बाद पोस्‍टमार्टम के लिए सरायकेला सदर अस्पताल भेज दिया।

कंधे और पीठ पर फरसा से वार

संतोषी महतो की हत्‍या बड़े निर्मम तारीके से धारदार हथियार से वार कर की गई है। मृतका के कंधे एवं पीठ पर फरसा से वार किया गया है। उसके एक हाथ भी तोड़ दिए गए। पुलिस को आशंका है कि हत्या से पहले उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म भी किया गया है।

मामला दर्ज

खबर पाते ही संतोषी महतो के मायके के लोग लेटेमदा गांव के नुतुनडीह टोला पहुंचे। घटना के बाद संतोषी महतो की माता का रो- रो कर बुरा हाल है। परिजजन बार-बार एक ही रट लगाये बैठे हैं कि दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा मिले। मृतका के पिता लंबोदर महतो के बयान पर पति के भाई पलटन महतो, खिरोध महतो,राम दुलार महतो व माता सुंदरी महतो के खिलाफ संदेह के आधार पर मामला दर्ज कराया है । थाना प्रभारी ने बताया मामले की तहकीकात की जा रही है। दोषी जल्द ही सलाखों के पीछे होगा। 

Posted By: Rakesh Ranjan