जागरण संवाददाता, जमशेदपुर : वरीय पुलिस अधीक्षक एम तामिल वाणन देह व्यापार संचालित किए जाने के मामले में सुपरविजन के लिए सोमवार को अलकोर होटल पहुंचे। वहां घटना के शिकायतकर्ता सीसीआर डीएसपी अरविद कुमार, 25 और 26 अप्रैल को होटल में हुई छापेमारी में शामिल दंडाधिकारी सूरज कुमार, सविता टुडु समेत चार दंडाधिकारी व होटल के सुरक्षाकर्मियों का अलग-अलग बयान दर्ज किया। इसमें कई राज खुले।

सूरज कुमार ने बताया कि हम सेक्टर मजिस्ट्रेट अभिजीत कुमार चौधरी, दारोगा अवनीश कुमार और राहुल कुमार सिह के साथ होटल पहुंचे थे। दो लड़की समेत कुछ लोग भाग निकले। तीन लोग पकड़े गए। सबको थाना लाया गया। पूछताछ में पकड़े गए लोगों ने अपना नाम क्रमश राजेश मंगोतिया, रजत जग्गी, दीपक अग्रवाल बताया। इन तीनों के साथ होटल मालिक और मैनेजर के खिलाफ लॉकडाउन उल्लघंन की प्राथमिकी दर्ज कराई गई। सीसीआर डीएसपी अरविद कुमार ने बताया कि होटल में जांच करने पर कमरा नंबर 402 में एक युवती मिली, जो 22 मार्च से ठहरी थी। उसने पूछताछ में बताया सीएच एरिया निवासी शरद पोद्दार ने उसे कोलकाता से बुलवाया था। उसने बताया कि शरद पोद्दार उसका प्रेमी है। पति-पत्नी की तरह दोनों रहते है। पांच-छह लाख रुपया शरद पोद्दार उसे दे चुका है। जुगसलाई निवासी राहुल अग्रवाल के पास कई युवतियों का नंबर है। होटल बुक कराने के साथ-साथ वह युवती भी मुहैया कराता है। सभी के बयान के आधार पर यह बात सामने आई कि होटल में देह व्यापार का धंधा संचालित हो रहा था। होटल के मालिक और मैनेजर की संलिप्ता से इन्कार नहीं किया जा सकता। इस आधार उनके बयान पर प्राथमिकी दर्ज की गई। छापेमारी के दिन तैनात सुरक्षाकर्मियों से होटल मे आने-जाने वालों के संबंध में पूछताछ की गई। कोल्हान डीआइजी के आदेश पर एसएसपी मामले का सुपरविजन कर रहे हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस