जागरण संवाददाता, जमशेदपुर । देश भर में इस समय पर्व-त्यौहारों की धूम मची हुयी है। पर्व त्यौहारों में धूम का मतलब एक से बढ़कर एक खाना। त्यौहार के समय इतने तरह का खाना सामने होता है कि चाहकर भी लोग अपने आप को कंट्रोल नहीं कर पाते। हालांकि कई लोग खाना देखकर कंट्रोल नहीं कर पाते। ऐसे में जमशेदपुर स्थित महात्मा गांधी मेडिकल कॉलेज अस्पताल की डायटीशियन अनु सिन्हा कहती हैं कि त्यौहार के समय मन को न मारें, बल्कि सही तरीके से खाएं सेहत व शरीर के लिए लाभदायक होगा।

अनु सिन्हा कहती हैं कि नवरात्र और दशहरा ऐसे ही त्योहार है, जिसमें लोग अधिक खा लेते हैं। इसकी वजह है नौ दिनों का व्रत रखने के बाद जब नवमी व दशमी को सामने कई तरह के खाने सामने होते हैं, जिसे देखकर कंट्रोल नहीं कर पाते। लेकिन यहीं पर ध्यान देने की जरूरत है।

पाचन तंत्र पर ज्यादा लोड नहीं देना है

डायटीशियन अनु सिन्हा कहती हैं कि यदि आपके सामने कई तरह के खाने का सामग्री हैं तो उसे ध्यानपूर्वक व सचेत होकर सेवन करें। क्योंकि अचानक अपने पाचन तंत्र पर ज्यादा लोड नहीं देना है, क्योंकि व्रत की वजह से यह स्लो हो चुका होता है। यदि आप व्रत नहीं किए हैं और पूड़ी और पकवान, मिठाइयां ज्यादा खा लेते हैं तो ज्यादा से ज्यादा पानी का सेवन करें। यही पानी शरीर को डिटॉक्स करती है। इसके अलावा रात में ज्यादा खा लेते हैं तो सोने से पहले गुनगुना पानी और नींबू पी लें। अगले दिन आप नारियल पानी, ग्रीन टी या फ्रूट जूस का सेवन करें।

सलाद, फाइबर की मात्रा बढ़ाएं

पर्व-त्यौहारों में यदि ज्यादा खाना खा भी लिए तो कोई बुराई नहीं है। आप खुद को खाने से न रोकें बल्कि अपने आप पर थोड़ा कंट्रोल करें। पानी अधिक से अधिक पीएं, इसके अलावा फाइबरयुक्त आहार अधिक लें, फल, सलाद, खीरा, अनार आदि लें, परेशानी से मुक्ति मिलेगी।

Edited By: Rakesh Ranjan