जमशेदपुर, जासं। यदि आपके पैरों पर खून के थक्के दिख रहे हैं या इस तरह के लक्षण दिख रहे हैं, तो समझ जाइए कि यह डीप वेन थ्रोम्बोसिस या गहरी शिरा रक्तस्राव का असर है। ऐसे में आप अपने पैरों में रक्त के थक्के के इन लक्षणों से सावधान रहें। रक्त के थक्के अच्छे और बुरे दोनों हो सकते हैं। कुछ मामलों में यह रक्त वाहिकाओं को हुए नुकसान को ठीक करने में मदद करता है। कुछ मामलों में बहुत अधिक रक्त खोने से रोकता है। आमतौर पर यह तब होता है, जब आप घायल हो जाते हैं या कट जाते हैं।

एकबारगी डरने की जरूरत नहीं

एमजीएम अस्पताल के चिकित्सक डॉ. बलराम झा का कहना है कि ऐसी स्थिति में डरने की जरूरत नहीं है, क्योंकि स्थिर थक्कों से कोई नुकसान नहीं होता है। यह तब खतरनाक या चिंताजनक हो सकता है, जब यह थक्का स्थान बदलता हो।इसके अलावा जब आपकी नसों में रक्त का थक्का बन जाता है, तो यह हमेशा अपने आप नहीं घुलता है, जिससे जीवन के लिए खतरा पैदा हो जाता है। रक्त के थक्कों के सबसे गंभीर प्रभावों में से एक डीप वेन थ्रोम्बोसिस (डीवीटी) है। यहां यह जानना जरूरी है कि डीवीटी क्या है।

25 वर्ष की उम्र के बाद होता है डीप वेन थ्रॉम्बोसिस (डीवीटी)

अब तक की जानकारी के मुताबिक यह बीमारी 25 वर्ष की उम्र के बाद ही होता है। नेशनल ब्लड क्लॉट एलायंस के अनुसार भी रक्त के थक्के के परिणाम से हर दिन 200 से अधिक लोग मर जाते हैं। यह तब होता है, जब रक्त या खून का थक्का बढ़ने लगता है।

डीप वेन थ्रोम्बोसिस तब होती है जब रक्त का थक्का, जिसे थ्रोम्बस भी कहा जाता है, आपके शरीर की एक या अधिक गहरी नसों में, विशेष रूप से पैरों में बनता है। यह एक ही स्थिति में लंबे समय तक सोने या बैठने के दौरान सोने का नकारात्मक परिणाम हो सकता है। यदि आपने इसका इलाज नहीं कराया तो डीवीटी गंभीर स्थिति पैदा कर सकता है, यहां तक ​​कि गंभीर परिस्थितियों में मृत्यु भी हो सकती है। सबसे बड़ा जोखिम तब होता है जब थक्का का हिस्सा टूट जाता है और फेफड़े या मस्तिष्क में चला जाता है, जिससे अचानक मृत्यु हो जाती है।

पैर में सूजन व दर्द इसके लक्षण

डीवीटी की पहचान कुछ लक्षणों की मदद से की जा सकती है। इसमें आमतौर पर एक पैर या कभी-कभी दोनों पैर में सूजन और दर्द होने लगे। जब कोई व्यक्ति गहरी शिरा थ्रोबिंग से प्रभावित होता है, तो उसे प्रभावित पैर में सूजन और दर्द होने की संभावना होती है। दोनों पैरों में समान अनुभव करना बेहद असामान्य है। यह एक सामान्य लक्षण है।

प्रभावित क्षेत्र के आसपास गर्म हो जाती त्वचा

एक डीप वेन थ्रोम्बोसिस भी लाल, फीकी पड़ चुकी त्वचा को जन्म दे सकती है। यह पैर के अंदर होने वाली सूजन के कारण हो सकता है। पैर के आसपास का प्रभावित क्षेत्र जो सूज गया है या दर्द कर रहा है, वह भी सामान्य से अधिक गर्म महसूस कर सकता है।

सूजी हुई नसें, छूने में कठोर और दर्दनाक

गहरी शिरा घनास्त्रता या डीप वेन थ्रोम्बोसिस से जुड़ी सभी समस्या के अलावा यह संभावना है कि त्वचा की सतह के पास की नसें सामान्य से बड़ी हो सकती हैं। छूने या स्पर्श करने में बहुत कठिन और दर्दनाक लग सकती है।

कब डॉक्टर के पास जाएं

जैसे ही आप डीवीटी के लक्षण देखते हैं, अपने डॉक्टर को फोन करना या उसके पास जाना सबसे अच्छा है। यह देखते हुए कि शीघ्र निदान अधिक गंभीर जटिलताओं को रोक सकता है, तुरंत एक विशेषज्ञ चिकित्सक से परामर्श करें। इसके अलावा यदि आप फुफ्फुसीय अन्त: शल्यता (पीई) के लक्षण या लक्षण विकसित करते हैं, जो गहरी शिरा घनास्त्रता से जुड़ी एक गंभीर जटिलता है, तो आपातकालीन चिकित्सा सहायता लें।

Edited By: Jitendra Singh