वेंकटेश्वर राव, जमशेदपुर । राजभवन की ओर से अभी तक जमशेदपुर महिला विश्वविद्यालय के कुलपति की नियुक्ति नहीं की गई है। इसके बावजूद वीमेंस कॉलेज की के कर्मचारी ज्योति प्रकाश महंती अपने आप को महिला विश्वविद्यालय के कुलपति का पीए बता रहे हैं। छात्राओं को भेजे जा रहे ई-मेल संदेश में इस पद का इस्तेमाल स्पष्ट रूप से किया जा रहा है। कॉलेज में नामांकन की त्रुटियों को लेकर छात्राओं की शिकायत पर भेजे जाने वाले मेल में इस कर्मचारी द्वारा पीए टू वाइस चांसलर पद का इस्तेमाल किया जा रहा है।

कई छात्राओं को कुलपति का पीए बनकर कर्मचारी ज्योति ने तकनीकी त्रुटियों का निराकरण करते हुए छात्राओं को जवाब दिया है। मालूम हो कि जमशेदपुर वीमेंस कॉलेज को अपग्रेड करते हुए महिला विश्वविद्यालय बनाया जा रहा है। इस विश्वविद्यालय के कुलपति को लेकर विज्ञापन निकाला गया था। इसके बाद इस पद के लिए कई लोगों ने आवेदन दिया था। पीए टू वाइसचांसलर का पद शिक्षा जगत में चर्चा का विषय बना हुआ है।

राजभवन तक पहुंची शिकायत

मशेदपुर वर्कर्स कॉलेज के विश्वविद्यालय प्रतिनिधि सागर ओझा ने वीमेंस कॉलेज के कर्मचारी ज्योति प्रकाश महंती की शिकायत राजभवन तथा कोल्हान विश्वविद्यालय के कुलपति से की है। सागर ओझा ने भेजे गए मेल में बताया है कि जब महिला विश्वविद्यालय के कुलपति की नियुक्ति या मनोनयन नहीं हुआ है तो ऐसे में कोई कैसे कुलपति का पीए बन सकता है। यह मामला बेहद गंभीर है। इसकी उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए।

जमशेदपुर वीमेंस कॉलेज की वेबसाइट अपडेट नहीं

जमशेदपुर वीमेंस कॉलेज की साइट एक माह बाद भी अपडेट नहीं है। इस कॉलेज की वेबसाइट हर समय अपडेट रहती है। ऐसा क्या कारण है कि सूचनाएं तो कॉलेज के वेबसाइट पर अपलोड हो रही है, लेकिन प्रिंसिपल डेस्क में पूर्व प्रिंसिपल डा. शुक्ला महंती को तस्वीर के साथ प्रिंसिपल बताया जा रहा है। छात्राएं और लोग इस बात से हतप्रभ है कि इतना नामी कॉलेज होने के बावजूद यह अपडेट क्यों नहीं हो रही है। कोल्हान विश्वविद्यालय ने वर्तमान में वीमेंस कॉलेज प्रभारी प्राचार्य डा. सबीहा यूनूस को बनाया है।

Edited By: Rakesh Ranjan