चाकुलिया, पंकज मिश्रा। पश्चिम बंगाल के झाड़ग्राम जिले के करीब 200 निर्वाचित पंचायत प्रतिनिधि सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के भय से झारखंड के पूर्वी सिंहभूम जिले के चाकुलिया व उसके आसपास के शहरों में तीन हफ्ते से शरण लेने को मजबूर हैं। इनमें करीब 45-50 महिला जनप्रतिनिधि भी शामिल हैं। चाकुलिया के पुराना बाजार के अग्रसेन धर्मशाला, देवी रानी लॉज और नया बाजार धर्मशाला में ऐसे लगभग 125 पंचायत प्रतिनिधि रह रहे हैं।

प्रतिनिधियों के साथ उनके परिवार के लोग व बच्चे भी ठहरे हुए हैं। इनमें झाड़ग्राम जिले के गोपीवल्लभपुर, बिनपुर, लोधाशोली, लालगढ़, सालबनी, छातनाशोल, साकराइल अंचल के पंचायत प्रतिनिधि शामिल हैं। जिले के चाकुलिया के अलावा मुसाबनी व घाटशिला में भी कई जनप्रतिनिधियों ने शरण ले रखी है। पंचायत प्रतिनिधियों की देखरेख के लिए झाड़ग्राम जिला भाजपा के महामंत्री अवनी घोष और संजीत महतो चाकुलिया में डटे हुए हैं।

भाजपा समर्थित पंचायत प्रतिनिधियों ने बताया कि पश्चिम बंगाल की तृणमूल सरकार उन्हें अपने पक्ष में करने के लिए साम, दाम, दंड, भेद हर तरह की नीति अपना रही है। किसी को पैसा और नौकरी का प्रलोभन दिया जा रहा है, तो किसी को झूठे केस में फंसाने की धमकी। तृणमूल कांग्रेस सरकार किसी भी तरह भाजपा समर्थित प्रतिनिधियों को अपने पाले में करना चाह रही है, ताकि पंचायत, प्रखंड व जिला बोर्ड का गठन तृणमूल के पक्ष में हो। तृणमूल सरकार के दबाव से बचने के लिए निर्वाचित पंचायत प्रतिनिधियों ने झारखंड में शरण लेने का निर्णय लिया है। झारखंड में उन्हें कोई खतरा नहीं है। वे पूरी तरह सुरक्षित महसूस कर रहे हैं।

पिछले दिनों संपन्न पंचायत चुनाव में झाड़ग्राम जिला के जंगलमहल वाले इलाके में तृणमूल एवं भाजपा के लगभग फिफ्टी फिफ्टी समर्थक विजयी घोषित हुए हैं। पश्चिम बंगाल के नियम के मुताबिक वहा निर्वाचित वार्ड पार्षद ही पंचायत प्रधान यानी मुखिया, प्रखंड प्रमुख व जिला परिषद के चेयरमैन का चयन करते हैं।

15 के बाद पश्चिम बंगाल में होना है बोर्ड का गठन
पंचायत प्रतिनिधियों के साथ चाकुलिया में ठहरे झाड़ग्राम जिला भाजपा के महामंत्री संजीत महतो ने बताया कि पश्चिम बंगाल सरकार जानबूझ कर बोर्ड के गठन में विलंब कर रही है, ताकि दूसरे दलों के निर्वाचित लोगों को अपने पाले में कर सके। सरकार ने 15 अगस्त के बाद बोर्ड गठन की तिथि घोषित की है। 16 से 31 अगस्त के बीच पंचायत प्रधान, 31 अगस्त से 6 सितंबर के बीच प्रखंड प्रमुख तथा 6 सितंबर से 10 सितंबर के बीच जिला परिषद के गठन की तारीख घोषित की गई है। चाकुलिया में शरण लिए पंचायत प्रतिनिधि बोर्ड गठन से ठीक पहले अपने अपने क्षेत्र में चले जाएंगे।

चाकुलिया आएंगे पश्चिम बंगाल भाजपा के नेता
चाकुलिया में शरण लिए पार्टी समर्थित पंचायत प्रतिनिधियों का हाल-चाल जानने पश्चिम बंगाल भाजपा के अध्यक्ष दिलीप घोष समेत कई वरीय नेता सोमवार को चाकुलिया आएंगे। यहां वह पार्टी समर्थित पंचायत प्रतिनिधियों से मिलकर वस्तुस्थिति की जानकारी प्राप्त करेंगे।