जमशेदपुर (जागरण संवाददाता)। CHICKEN FESTIVAL कोरोना वायरस को लेकर फैले डर के बीच यहां एक अनोखा आयोजन किया गया। इसमें 1000 से अधिक लोगों ने चिकेन करी और चिकन पकौड़ा का लुत्‍फ उठाया।

इस आयोजन का उद़देश्‍य लोगों को इस बात के लिए जागरूक करना था कि चिकन खाने से कोरोना वायरस फैलने की अफवाह महज अफवाह है। यह अनोखा आयोजन पूर्वी सिंहभूम जिले के जमशेदपुर शहर अंतर्गत टेल्को रीक्रिएशन क्लब में शुक्रवार को किया गया। 

चिकन फेस्टिवल में उमड़ी लोगों की भीड़ 

इस आयोजन का नाम चिकन फेस्टिवल रखा गया था। चिकेन फेस्टिवल में 1000 से अधिक लोगों ने चिकेन करी और चिकेन पकोड़ा चावल के साथ खाया।

दरअसल, भारत सरकार के पशुपालन मंत्रालय और स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बयान जारी कर घोषणा की गई है कि चिकेन और अंडा खाने से किसी भी तरह का वायरस नहीं फैल रहा है। इस घोषणा के अनुसार ही शुक्रवार को झारखंड पशुपालन संघ और मुर्गी उत्पादक सहकारी समिति के संयुक्त तत्वाधान में चिकन फेस्टिवल का आयोजन किया गया।

चिकन फेस्टिवल आयोजित करने का मुख्य उद्देश्य लोगों में जागरूकता लाना है आम लोगों को या जानकारी देना है कि कोरोना या अन्य कोई वायरस का शिकायत चिकन और अंडा खाने से नहीं हो रहा है आज इसी उद्देश्य चिकेन करी चिकन पकोड़ा और चावल के साथ 1000 से अधिक लोगों ने लुत्‍फ उठाया।

झारखंड महिला पोल्ट्री सहकारी समिति के सीईओ डॉ पंकज दास, झारखंड पशुपालन संघ के सचिव श्रीनिवास सिंह पशुपालन पदाधिकारी डॉ राजेश कुमार सिंह, डॉ पीएन सिंह मनीष भाटिया, प्रवीन कुमार श्रीवास्तव ने संयुक्त रूप से उक्त जानकारी दी।

पत्रकारों के सवाल पर जवाब देते हुए डॉ पंकज दास ने कहा कि कुछ लोग बेवजह अफवाह फैला रहे हैं इस अफवाह को रोकने के लिए दोनों संगठनों की ओर से लोगों को सही जानकारी देने के लिए चिकेन फेस्टिवल का आयोजन किया गया जो पूरी तरह सफल रहा। काफी संख्या में पशुपालन संघ और मुर्गी उत्पादन संघ के पदाधिकारी और सदस्य गण इस मौके पर मौजूद थे।

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस